scorecardresearch
 

बजट सत्र शुरू, राष्ट्रपति कोविंद के अभिभाषण की खास बातें

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के भाषण के साथ बजट सत्र की शुरुआत हो गई है. राष्ट्रपति कोविंद ने अपने भाषण में मोदी सरकार की ढेरों योजनाओं का जिक्र किया. उन्होंने अपने भाषण के जरिए सरकार के अब तक की खूबियों और भविष्य के बारे में जानकारी दी.

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद (फाइल फोटो) राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद (फाइल फोटो)

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के भाषण के साथ बजट सत्र की शुरुआत हो गई है. राष्ट्रपति कोविंद ने अपने भाषण में मोदी सरकार की योजनाओं का जिक्र किया. कोविंद के भाषण की खास बातें.

उन्होंने भाषण की शुरुआत करते हुए कहा कि बाबा साहेब अंबेडकर ने कहा था कि आर्थिक और सामाजिक स्तर पर लोकतंत्र लाए बगैर राजनीतिक लोकतंत्र को स्थिर नहीं किया जा सकता. 2018 का साल नए भारत के सपने को साकार करने के लिए है.

राष्ट्रपति ने अपने भाषण में कहा, "मेरी सरकार कमजोर वर्गों के लिए समर्पित है. मेरी सरकार संविधान में निहित मूलभावना पर चलते हुए देश में सामाजिक न्याय तथा आर्थिक लोकतंत्र को सशक्त करने और आम नागरिक के जीवन को और आसान बनाने के लिए कार्य कर रही है. सरकार ने वंचित और सुविधाओं से वंचित महिलाओं को गैस कनेक्शन से जोड़ने की योजना बनाई और अब तक 3 करोड़ 30 लाख से ज्यादा महिलाओं को इस योजना से गैस कनेक्शन दिए गए."

"मुस्लिम महिलाओं की सुधार के लिए तीन तलाक बिल संसद में पेश किया गया है और उम्मीद है कि इस सत्र में यह बिल कानून बन जाएगा."

"यह हमारा कर्तव्य है कि 2019 में जब हम महात्मा गांधी की 150वीं जयंती मनाने के लिए जाएं तो उस समय तक देश को पूरी तरह स्वच्छ भारत बनाकर उन्हें अपनी ओर से सम्मान दें."

राष्ट्रपति ने कहा कि कामकाजी महिलाओं को 12 हफ्ते की जगह 26 हफ्ते की मातृत्व अवकाश मिलेगा वेतन सहित दिया जाएगा.

"गरीबों की पीड़ा को देखते हुए उनके लिए जन-धन योजना के तहत खाते खोलने की योजना बनाई गई और इस योजना के जरिए 21 करोड़ लोगों के बैंक खाते खोले गए. इस योजना से पहले गरीबों के खाता खोलने की दर 28 फीसदी थी जो बढ़कर 40 फीसदी हो गई."

राष्ट्रपति ने अपने भाषण में कहा, "मेरी सरकार द्वारा बेटियों के साथ भेदभाव खत्म करने के लिए‘बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ’योजना शुरू की थी. इस योजना के सकारात्मक परिणाम को देखते हुए अब इसका दायरा 161 जिलों से बढ़ाकर 640 जिलों तक कर दिया गया है."

कोविंद ने भाषण में कहा, "प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत अब तक लगभग 10 करोड़ ऋण स्वीकृत किए गए हैं और 4 लाख करोड़ रुपए से ज्यादा का कर्ज दिया गया है. इनमे से 3 करोड़ लोग ऐसे हैं जिन्होंने पहली बार इस योजना का लाभ उठाया है और स्वरोजगार शुरू करने में सफल हुए."

"देश के इतिहास में पहली बार मुस्लिम महिलाएं अकेले हज यात्रा पर जा सकेंगी. 1,300 से ज्यादा महिलाएं बिना मेरहम हज जा रही हैं."

"2022 तक सभी को घर देने की योजना पर काम जारी है."

"2022 तक सरकार किसानों की आय दोगुनी कराने को प्रतिबद्ध है."

"गांवों को जोड़ने के लिए ब्रॉडबैंड सेवा की शुरुआत की गई है. 2.5 लाख पंचायत पहले ही इससे जुड़ चुके हैं."

"2.70 लाख कॉमन सर्विस सेंटर पूरे देशभर में खोला गया है. यह सेंटर्स कम कीमत पर लोगों को डिजिटल सेवाएं मुहैया कराएंगे."

"प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत लोगों को विकास के करीब लाना है. 2014 में महज 56 फीसदी गांव सड़कों से कनेक्टेड थे, लेकिन आज 82 फीसदी गांव सड़क से जुड़ गए हैं. खासकर रिमोट एरिया में."  

"हमारा देश युवा देश है, मेरी सरकार ने स्टार्ट अप इंडिया की शुरुआत की है. स्टार्ट अप इंडिया, स्किल इंडिया और प्रधानमंत्री मुद्रा योजना देश के युवाओं के लिए फायदेमंद रहेगा और उन्हें अपना सपना पूरा करने में मदद मिलेगी. साथ ही वे आत्मनिर्भर हो सकेंगे."

"जो उद्धोग या कंपनियां नौकरियों के नए अवसर सृजित कर रही हैं, उन्हें ‘प्रधानमंत्री रोजगार प्रोत्साहन योजना’के तहत आर्थिक मदद दी जा रही है, अब तक 20 लाख से ज्यादा लाभार्थी इस योजना से सहायता प्राप्त कर चुके हैं."

"सरकार की नीतियों और किसानों की कड़ी मेहनात का ही परिणाम है कि देश में 275 मिलियन टन से ज्यादा खाद्यान्न और लगभग 300 मिलियन टन फलों-सब्जियों का रिकॉर्ड उत्पादन हुआ."

"हम सभी के लिए गौरव की बात है कि कुंभ मेले को यूनेस्को ने ‘मानवता की अमूर्त सांस्कृतिक धरोहर’की सूची में शामिल किया है, जबकि अहमदाबाद को भारत की पहली ‘हेरिटेज सिटी’का दर्जा दिया, वहीं यूनेस्को ने चेन्नई को क्रिएटिव सिटीज की सूची में स्थान दिया है."

"आधार से गरीबों तक सीधे सुविधाओं की पहुंच आसान हुई है. वर्तमान में 400 से ज्यादा सरकारी योजनाओं में डिजिटल लेनदेन किया जा रहा है. 57 हजार करोड़ रुपए गलत हाथों में जाने से रोका गया है."

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें