scorecardresearch
 

बजट सत्र से पहले PM मोदी बोले- 3 तलाक बिल पास कर मुस्लिम महिलाओं को दें तोहफा

बजट सत्र से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मीडिया को संबोधित किया. उन्होंने कहा कि इस बजट सत्र में मैं सभी राजनीतिक दलों से अपील करूंगा कि तीन तलाक बिल को पास करवाएं.

फाइल फोटो फाइल फोटो

संसद का बजट सत्र आज से शुरू हो रहा है. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के अभिभाषण के साथ सत्र की शुरुआत होगी, जिसके बाद वित्तमंत्री अरुण जेटली आर्थिक सर्वेक्षण पेश करेंगे. बजट सत्र से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मीडिया को संबोधित किया. उन्होंने कहा कि इस बजट सत्र में मैं सभी राजनीतिक दलों से अपील करूंगा कि तीन तलाक बिल को पास करवाएं. और मुस्लिम महिलाओं को नए साल का तोहफा दें.

बजट सत्र के बारे में पीएम मोदी ने कहा कि ये सत्र महत्वपूर्ण है, पूरा विश्व भारत की अर्थव्यवस्था के प्रति आशावान हैं. भारत की प्रगति पर दुनिया की सभी एजेंसियों ने मुहर लगाई है. मोदी ने कहा कि ये बजट देश की तेज गति से आगे बढ़ रही अर्थव्यवस्था को और भी ऊर्जा देगा. उन्होंने कहा कि बजट के बाद अलग-अलग कमेटियों में इस पर चर्चा होगी. जिसमें विपक्ष कमियां बताएगा और सत्ता पक्ष तारीफ करेगा. बजट पर एक अच्छी बहस की उम्मीद है. हमने ऑल पार्टी मीटिंग में भी इस बात पर चर्चा की थी.

बतौर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का यह पहला अभिभाषण होगा. राष्ट्रपति का अभिभाषण दरअसल केंद्र सरकार का दस्तावेज होता है जिसमें केंद्र सरकार की पिछले साल की उपलब्धियों के साथ-साथ आगामी वित्तीय वर्ष के लिए सरकार के विज़न, योजनाओं और एजेंडे का खाका होता है. बजट सत्र का पहला भाग 29 जनवरी से 9 फरवरी तक चलेगा, वहीं दूसरा हिस्सा 6 मार्च से 6 अप्रैल तक चलेगा.

लोकलुभावन बजट की संभावना कम

आपको बता दें कि हाल ही में एक इंटरव्यू के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ऐसे संकेत दिए थे कि ये बजट लोकलुभावन नहीं होगा. पीएम मोदी ने कहा था कि आगामी आम बजट कोई लोकलुभावन बजट नहीं होगा और सरकार सुधारों के अपने एजेंडे पर ही चलेगी, जिसके चलते भारतीय अर्थव्यवस्था "पांच प्रमुख" कमजोर अर्थव्यवस्थाओं की जमात से निकलकर दुनिया का "आकर्षक गंतव्य" बन गया है.

एक फरवरी को पेश होगा बजट

1 फरवरी यानी गुरुवार को वित्त मंत्री अरुण जेटली आम बजट पेश करेंगे. वित्त मंत्री के साथ इस बजट को तैयार करने में कई लोग लगे हुए हैं. हंसमुख अध‍िया वित्त सच‍िव हैं. 1981 के गुजरात कैडर के आईएएस अधिकारी हैं. बजट टीम में अध‍िया सबसे अनुभवी अध‍िकारी हैं. वह इस साल टीम की अगुवाई कर रहे हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें