scorecardresearch
 

राम मंदिर के ट्रस्ट में संघ प्रमुख भागवत को नहीं होना चाहिए: VHP

विहिप के एक पदाधिकारी ने कहा कि संघ के प्रचारक या वरिष्ठ पदाधिकारी समाज के काम को समाज के लोगों के जरिए ही आगे बढ़ाने में विश्वास रखते हैं. खुद ट्रस्ट में पद लेना उन्हें उचित नहीं लगता.

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत (फोटो-ians) राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत (फोटो-ians)

  • विहिप के एक राष्ट्रीय पदाधिकारी ने दिया बयान
  • समाज के लोगों के जरिए ही आगे बढ़ाने में विश्वास

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए बनने जा रहे ट्रस्ट का अध्यक्ष संघ प्रमुख मोहन भागवत को बनाने की उठ रही मांगों पर विश्व हिंदू परिषद ने बड़ा बयान दिया है. संघ के प्रचारक रहे और मौजूदा समय विहिप के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष चंपत राय ने ऐसी मांगों को खारिज करते हुए कहा, 'ट्रस्ट में संघ प्रमुख मोहन भागवत को नहीं होना चाहिए. हालांकि उन्होंने पत्रकारों को इसको लेकर कोई कारण नहीं बताया.

संघ में नहीं है ऐसी परंपरा

बाद में विहिप के एक राष्ट्रीय पदाधिकारी ने समाचार एजेंसी आईएएनएस से कहा, 'संघ के शीर्ष पदाधिकारी किसी ट्रस्ट का खुद हिस्सा बनने में विश्वास नहीं रखते. संघ में ऐसी परंपरा भी नहीं रही है. संघ प्रमुख के सामने अगर कोई प्रस्ताव रखेगा भी तो वह इन्कार कर देंगे.'

बता दें कि बीते दिनों महंत परमहंस महाराज ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत को अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए बनने वाले ट्रस्ट का अध्यक्ष बनाने की मांग की थी. उन्होंने कहा था कि इसके लिए वह (महंत परमहंस) अनशन पर भी बैठ सकते हैं.

राष्ट्रीय उपाध्यक्ष का नागपुर दौरा

ऐसे में विहिप के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष जब नागपुर दौरे पर पहुंचे तो पत्रकारों ने इससे जुड़ा सवाल कर दिया. जिसके जवाब में उन्होंने कहा कि संघ प्रमुख मोहन भागवत को राम मंदिर ट्रस्ट का अध्यक्ष नहीं बनना चाहिए. विहिप के एक पदाधिकारी ने कहा, 'संघ के प्रचारक या वरिष्ठ पदाधिकारी समाज के काम को समाज के लोगों के जरिए ही आगे बढ़ाने में विश्वास रखते हैं. खुद ट्रस्ट में पद लेना उन्हें उचित नहीं लगता.'

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें