scorecardresearch
 

नित्‍यानंद भक्‍तों को प्रसाद में देते थे ड्रग्‍स!

कहते हैं कि आस्था में तर्क की जगह नहीं होती. बैंगलोर से मदुरई चले गये स्वामी नित्यानंद के लाखों भक्त भी यहीं मानते हैं और इसीलिए अपने स्वामी जी पर आंख मूंद कर भरोसा करते हैं. उनके हाथों से चरणामृत पाकर वो खुद को धन्य मानते हैं. लेकिन उनकी आस्था और उम्मीदों को एक बड़ा झटका उस आरोप से लगा है, जिसमें कहा गया है कि नित्यानंद बांटते हैं नशीला चरणामृत.

स्वामी नित्यानंद स्वामी नित्यानंद

कहते हैं कि आस्था में तर्क की जगह नहीं होती. बैंगलोर से मदुरई चले गये स्वामी नित्यानंद के लाखों भक्त भी यहीं मानते हैं और इसीलिए अपने स्वामी जी पर आंख मूंद कर भरोसा करते हैं. उनके हाथों से चरणामृत पाकर वो खुद को धन्य मानते हैं. लेकिन उनकी आस्था और उम्मीदों को एक बड़ा झटका उस आरोप से लगा है, जिसमें कहा गया है कि नित्यानंद बांटते हैं नशीला चरणामृत.

उम्र महज 34 साल, चेहरे पर मुस्कान और जुबान से निकलती परमज्ञान की बड़ी बड़ी बातें. ये विवादित नित्यानंद हैं जिनपर पिछले करीब 2 सालों से लग चुके हैं कई तरह के संगीन आरोप. जिनके खिलाफ कई थानों में अबतक कई केस दर्ज हो चुके हैं और अदालतों में आपराधिक मामलों की सुनवाई चल रही है.

पहले ही आरोपों के जाल में फंसे स्वामी नित्यानंद अब फंस गए हैं एक और सनसनीखेज विवाद में. बड़ी खबर ये है कि पवित्र जल में मादक पदार्थ मिलाने के आरोप में नित्यानंद के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है.

पुलिस ने मद्रास उच्च न्यायालय को जानकारी दी है कि उन्होंने नित्यानंद और दो दूसरे लोगों के खिलाफ श्रद्धालुओं को पवित्र पानी या चरणामृत के नाम पर ड्रग्स मिला हुआ पानी देने एक मामला दर्ज किया है.

नित्यानंद के खिलाफ एम सोलुईकन्नन की शिकायत पर जब मद्रास हाईकोर्ट के सामने ये मामला सुनवाई के लिए आया तो सरकारी वकील ने अदालत को जानकारी दी कि पुलिस ने कई धाराओं के तहत नित्यानंद के खिलाफ केस दाखिल कर लिया है यानी अब नित्यानंद फंस चुके हैं एक नई मुसीबत में जिससे बचना उनके लिए आसान नहीं होगा.

नित्यानंद ने कुछ दिनों पहले ही अपने बैंगलोर आश्रम को छोड़कर एक बेहद पुरानी धार्मिक संस्था मदुरई अधीनम में अपना ठिकाना बनाया है. इस हैरान करने वाले आरोप के मुताबिक विवादो में रहने वाले नित्यानंद मदुरई के आश्रम में अपने भक्तों को जो पवित्र तरल प्रसाद देते थे उसमे ड्रग्स की मिलावट होती थी. इल्जाम है कि नित्यानंद ने अपने कई भक्तों की धार्मिक भावनाओं और उनके स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ किया है क्योंकि वो जिस पवित्र पानी या चरणामृत को प्रसाद स्वरुप उन्हें बांटते थे उसमे नशीले पदार्थों का मिश्रण होता था.

हिंदू मक्कल काची मठ के एम सोलुईकन्नन ने अदालत में इस बिनाह पर याचिका दायर की थी कि पुलिस नित्यानंद के खिलाफ उनकी शिकायत पर कोई कार्रवाही नहीं कर रही थी और न ही उस पानी की जांच हो रही है जो भक्तों को दिया जा रहा है.

मामला अदालत और पुलिस थाने तक पहुंच चुका है. अगर नित्यानंद पर आरोप सही साबित हो जाते हैं तो फिर सजा भी सख्त ही होगी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें