scorecardresearch
 

1984 सिख दंगाः पीड़िता चाम कौर ने कोर्ट में सज्जन कुमार को पहचाना

पटियाला हाउस कोर्ट में 1984 सिख दंगों से जुड़े मामले में सुनवाई चल रही है. शुक्रवार को 1984 के सिख दंगा पीड़ित गवाह बीवी चाम कौर ने सज्जन कुमार को पहचान लिया है.

बढ़ सकती है सज्जन कुमार की मुश्किलें (फाइल/ AP) बढ़ सकती है सज्जन कुमार की मुश्किलें (फाइल/ AP)

1984 सिख दंगा मामले में पटियाला हाउस कोर्ट में सुनवाई के दौरान गवाह चाम कौर ने सज्जन कुमार को सुनवाई के दौरान जज के सामने पहचान लिया है. कोर्ट की जज पूनम भांबा की कोर्ट में गवाह चाम कौर ने सज्जन कुमार की पहचान करते हुए कहा कि ये वही शख्स है जिसने भीड़ को उकसाया था.

1984 के दंगे से जुड़े इस मामले में सज्जन कुमार आरोपी हैं. बीवी चाम कौर के परिवार के कई लोगों को दंगे में अपनी जान गंवानी पड़ी थी. पटियाला हाउस कोर्ट में मामले की सुनवाई आज शुक्रवार को खत्म हो गई. 20 दिसंबर को अगली सुनवाई होगी.

चाम कौर ने कोर्ट को सज्जन कुमार के सामने दिए बयान में कहा कि 1 नवंबर 1984 को सुल्तानपुरी इलाके में भीड़ को सज्जन कुमार ने उकसाया था और उसके बाद भीड़ ने उसके घर को आग के हवाले कर दिया था. चाम कौर ने कोर्ट को दिए अपने बयान में आगे बताया कि उसके पिता और बेटे की हत्या भी उसी भीड़ ने की. इस मामले की जांच सीबीआई भी कर रही है.

इसी ने भीड़ को उकसाया

कोर्ट में गवाही देने के बाद मीडिया से बात करते हुए चाम कौर ने कहा, '1984 सिख दंगा मामले में गवाह के तौर पर मैंने सामने खड़े सज्जन कुमार की पहचान कर ली है. मैंने जज साहब को बोला इसी ने भीड़ को उकसाया था. पार्क में सज्जन कुमार ने बोला था कि हमारी मां का कत्ल सिखों ने किया है. इसलिए इन लोगों को नहीं छोड़ना है और बाद में मेरे बेटे और पिता का कत्ल उकसावे में उसी भीड़ ने कर दिया.'

पटियाला हाउस कोर्ट 20 दिसंबर को मामले की अगली सुनवाई करेगा.

पहली बार हुई पहचान

चाम कौर की शुक्रवार को कोर्ट में दी गई गवाही सज्जन कुमार के लिए बहुत बड़ा झटका हो सकता है क्योंकि कोर्ट में सामने से सज्जन कुमार की पहचान पहली बार हुई है. हालांकि 20 दिसंबर को होने वाली अगली सुनवाई में सज्जन कुमार के वकील इस गवाही को झूठा साबित करने का प्रयास करेंगे.

चाम कौर इससे पहले पटियाला हाउस कोर्ट में ये अर्जी भी लगा चुकी है कि उनको गवाही से रोकने के लिए धमकी दी गई थी, साथ ही पैसे की पेशकश भी की गई.

पटियाला हाउस कोर्ट में 2 दिन पहले भी 1984 सिख दंगे से जुड़े एक मामले में कोर्ट ने 2 लोगों को दोषी ठहराया है. जिस पर कोर्ट को सजा का ऐलान 20 नवंबर को करना है. कोर्ट रूम से निकलने के बाद गुरुवार को उन दोनों दोषियों पर अकाली नेता मनजिंदर सिंह सिरसा ने पुलिस की मौजूदगी में मारपीट भी की थी जिससे कोर्ट में अच्छा खासा हंगामा हो गया था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें