scorecardresearch
 

राजस्थान में पेट्रोल 100 रुपये पार, व्यापारियों ने लगाई VAT कम करने की गुहार

राजस्थान में पेट्रोल डीजल पर देश में सबसे ज्यादा वैट लगता है. राज्य में पेट्रोल पर 38 प्रतिशत और डीजल पर 28 प्रतिशत टैक्स राज्य सरकार की तरफ से लगता है. कोरोना के दौरान फंड जुटाने के लिए राजस्थान सरकार ने पेट्रोल और डीजल पर 10 प्रतिशत अतिरिक्त वैट लगा दिया है.

प्रतीकात्मक तस्वीर प्रतीकात्मक तस्वीर
स्टोरी हाइलाइट्स
  • राजस्थान के श्रीगंगानगर में पेट्रोल पहुंचा 100 पार
  • प्रीमियम पेट्रोल की कीमत 101.54 रुपये प्रति लीटर
  • व्यापारियों ने राज्य सरकार से वैट कम करने की मांग की

राजस्थान में सोमवार को पेट्रोल की कीमतें 100 रुपये पार कर गई. कुछ दिन पहले तक जिस बात को लोग व्यंग्य और कटाक्ष के तौर पर कहते थे, अब वो राजस्थान में सच साबित हो गया है.  

राजस्थान के श्रीगंगानगर में सोमवार को पेट्रोल 100 रुपये पार हो गया. यहां पर प्रीमियम पेट्रोल 101.54 रुपये प्रति लीटर बिका. जबकि सामान्य पेट्रोल 97.69 रुपये प्रति लीटर बिका. 

पेट्रोल की सेंचुरी से परेशान व्यापारियों और आम नागरिकों ने राज्य सरकार से गुहार लगाई है और राज्य में वैट की दरें कम करने की मांग की है. 

देखें: आजतक LIVE TV

बता दें कि राजस्थान में पेट्रोल डीजल पर देश में सबसे ज्यादा वैट लगता है. राज्य में पेट्रोल पर 38 प्रतिशत और डीजल पर 28 प्रतिशत टैक्स राज्य सरकार की तरफ से लगता है. कोरोना के दौरान फंड जुटाने के लिए राजस्थान सरकार ने पेट्रोल और डीजल पर 10 प्रतिशत अतिरिक्त वैट लगा दिया है. इस वजह से राज्य में पेट्रोल-डीजल और भी महंगा हो गया है. 

राजस्थान पेट्रोल डीजल एसोसिएशन के अध्यक्ष सुनीत बगई ने राजस्थान सरकार से अपील की है कि वैट की रेट काम किए जाएं वरना पेट्रोलियम कारोबार घाटे का सौदा बन रहा है. 

इधर पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने भी राजस्थान सरकार से वैट की दरें कम करने की मांग की है. लेकिन राज्य के परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचारियावास का कहना है कि पिछले एक महीने में बार केंद्र सरकार ने पेट्रोल और डीजल के दाम 16 बार बढाए है. उन्होंने कहा कि मोदी सरकार अगर पेट्रोल और डीजल के दाम कम करें तो जनता को खुद ही राहत मिल जाएगी. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें