scorecardresearch
 

कृषि कानून खत्म करने के लिए बुलाया गया राजस्थान विधानसभा का सत्र, आज पेश होंगे 4 विधेयक

राजस्थान सरकार की ओर से बुलाए गए इस सत्र में 4 विधेयक पेश किए जाएंगे. बीजेपी ने भी इन विधेयकों के विरोध के लिए विधायक दल की बैठक बुलाई है.

कांग्रेस ने विधानसभा का विशेष सत्र बुलाया है. (File) कांग्रेस ने विधानसभा का विशेष सत्र बुलाया है. (File)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • कृषि कानूनों के खिलाफ कांग्रेस सरकार ने बुलाया विशेष सत्र
  • इस विशेष सत्र में कांग्रेस पेश करेगी चार विधेयक
  • विशेष सत्र में विधेयकों के विरोध की तैयारी में बीजेपी

केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के खिलाफ राजस्थान की कांग्रेस सरकार ने जयपुर में शनिवार से विधानसभा का विशेष सत्र बुलाया है. कृषि कानूनों को खत्म करने के लिए बुलाए गए इस सत्र में 4 विधेयक पेश किए जाएंगे. 

विधानसभा में राजस्थान सरकार के मुख्य सचेतक महेश जोशी ने कहा कि भारत सरकार ने कॉर्पोरेट घरानों के लिए कृषि कानून बनाया है जिसके खिलाफ कानून बनाने के लिए हमने विधि सम्मत विधानसभा सत्र बुलाया है. हम किसानों के हक की रक्षा के लिए कानून पास कराएंगे और अन्य जरूरी विधेयक भी पेश किए जाएंगे.

सूत्रों के अनुसार आखिरी समय में कृषि बिल में यह प्रावधान किया गया है कि न्यूनतम समर्थन मूल्य यानी एमएसपी से कम की खरीद पर 3 से लेकर 5 साल तक की सजा का प्रावधान बनाने की तैयारी है. 

उधर बीजेपी ने सुबह 10:00 बजे विधानसभा में विधायक दल की बैठक बुलाई है जिसमें इन विधेयकों का विरोध किया जाएगा. विधानसभा में प्रतिपक्ष के उपनेता राजेंद्र राठौड़ ने कहा कि राजस्थान सरकार संघवाद कि देश की परिकल्पना के खिलाफ यह कानून लेकर आ रही है. संविधान के खिलाफ या कानून केवल गांधी परिवार को खुश करने के लिए लाया जा रहा है.

कांग्रेस सरकार पेश करेगी ये चार विधेयक-

1.कृषि उपज व्यापार और वाणिज्य संवर्धन और सरलीकरण राजस्थान संशोधन विधेयक 2020
2.कृषक सशक्तिकरण और संरक्षण कीमत आश्वासन और कृषि सेवा पर करार राजस्थान संशोधन विधेयक 2020
3.आवश्यक वस्तु विशेष उपबंध और राजस्थान संशोधन विधेयक 2020 
4.सिविल प्रक्रिया संहिता राजस्थान संशोधन विधेयक 2020

माना जा रहा है कि शनिवार को विधानसभा के पटल पर यह कृषि विधेयक पेश किए जाएंगे उसके बाद 1 नवंबर को इस पर चर्चा होगी और 2 नवंबर को पारित कर दिया जाएगा. विधानसभा के विशेष सत्र में हिस्सा लेने के लिए पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे जयपुर पहुंच गए हैं जबकि पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट मध्यप्रदेश के उपचुनाव में व्यस्त होने की वजह से कल जयपुर नहीं आ पाएंगे.

देखें- आजतक LIVE TV

बता दें कि विधानसभा में बहुमत साबित करने के लिए जब गहलोत सरकार ने विधानसभा का सत्र बुलाया था तब सत्रावसान नहीं किया था बल्कि विधानसभा को निलंबित कर रखा था जिसकी वजह से विधानसभा बुलाने के लिए राज्यपाल की इजाजत नहीं लेनी पड़ी और विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी ने विधानसभा सत्र आहुत किया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें