scorecardresearch
 

नये साल के जश्न पर भी नहीं होगी आतिशबाजी, राजस्थान सरकार ने लगाया बैन

इससे पहले प्रदेश की गहलोत सरकार दिवाली से पहले भी पटाखों के इस्तेमाल और बिक्री पर रोक लगा चुकी है. राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने आग्रह किया कि प्रदेशवासी दीपावली के त्यौहार की तरह ही नववर्ष का जश्न भी घरों के अंदर रहकर अपने परिवार के साथ मनाएं, ताकि कोविड-19 के संक्रमण से बचाव हो सके.

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (फाइल फोटो) राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • नववर्ष पर पटाखों के इस्तेमाल पर सरकार ने लगाई रोक
  • घर पर ही जश्न मनाने का सरकार ने किया आग्रह
  • कोरोना संक्रमण से बचने के लिए लिया गया फैसला

राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार ने कोरोना वायरस महामारी के कारण नववर्ष मनाने के लिए पटाखों के इस्तेमाल पर प्रतिबंध लगा दिया है. गहलोत सरकार का कहना है कि यह कोविड-19 संक्रमण से बचाव के लिए किया गया है. 

इससे पहले प्रदेश की गहलोत सरकार दिवाली से पहले भी पटाखों के इस्तेमाल और बिक्री पर रोक लगा चुकी है. राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने आग्रह किया कि प्रदेशवासी दीपावली के त्यौहार की तरह ही नववर्ष का जश्न भी घरों के अंदर रहकर अपने परिवार के साथ मनाएं, ताकि कोविड-19 के संक्रमण से बचाव हो सके.

देखें आजतक LIVE TV

गहलोत ने कहा कि सर्वोच्च न्यायालय ने हाल ही में दिशा-निर्देश जारी कर राज्यों को बाजारों और सार्वजनिक स्थलों पर भीड़ रोकने, यथासंभव धार्मिक सामाजिक आयोजनों की अनुमति नहीं देने जैसे कड़े कदम उठाने के लिए कहा है. राजस्थान वह राज्य होगा जो इन निर्देशों की पालना सुनिश्चित करेगा.

नववर्ष के आने वाले कुछ सप्ताह के दौरान पूरे प्रदेश में भीड़ के इकट्ठा होने, सामूहिक आयोजनों और आतिशबाजी आदि पर पूर्ण प्रतिबंध रहेगा. नाइट कर्फ्यू जारी रहेगा. सड़कों और अन्य सार्वजनिक जगहों पर पुलिस की गश्त तथा कार्रवाई अधिक सख्त होगी. लोगों में संक्रमण से बचाव की जागरूकता के उद्देश्य से स्वायत्त शासन विभाग को ‘कोविड-19 के विरूद्ध जन आंदोलन’ की अवधि 31 जनवरी तक बढ़ाने के निर्देश दिए हैं. इस दौरान निःशुल्क मास्क वितरण जारी रहेगा. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें