scorecardresearch
 

राजस्थान: अस्पताल में वेंटिलेटर बंद पड़े, नाराज बीजेपी विधायक बोले-आत्मदाह कर लूंगा

जालोर से बीजेपी विधायक जोगेश्वर गर्ग ने सोशल मीडिया के जरिए आत्मदाह करने की चेतावनी दे दी है. अस्पताल में एक साल से बंद पड़े वेंटिलेटर को शुरू करवाने के प्रयास कर रहे विधायक अब खासा नाराज हैं. उनकी तरफ से प्रशासन पर गंभीर आरोप लगा दिए गए हैं.

बीजेपी विधायक जोगेश्वर गर्ग बीजेपी विधायक जोगेश्वर गर्ग
स्टोरी हाइलाइट्स
  • बीजेपी विधायक ने दी आत्मदाह की चेतावनी
  • अस्पताल में बंद पड़े वेंटिलेटर से नाराज
  • अस्पताल में 13 वेंटिलेटर, सभी पड़े हैं बंद

राजस्थान में कोरोना से हालात काफी खराब हैं. रिकॉर्डतोड़ मामलों के बीच स्वास्थ्य महकमा की लचर व्यवस्था भी लोगों पर भारी पड़ रही है. किसी अस्पताल में बेड नहीं मिल रहा है तो कहीं पर ऑक्सीजन की कमी देखने को मिल रही है.

इस बीच जालोर से बीजेपी विधायक जोगेश्वर गर्ग ने सोशल मीडिया के जरिए आत्मदाह करने की चेतावनी दे दी है. अस्पताल में एक साल से बंद पड़े वेंटिलेटर को शुरू करवाने के प्रयास कर रहे विधायक अब खासा नाराज हैं. उनकी तरफ से प्रशासन पर गंभीर आरोप लगा दिए गए हैं.

बीजेपी विधायक ने दी आत्मदाह की चेतावनी

राजस्थान के जालोर जिला अस्पताल में कोरोना मरीजों का इलाज होता है. लेकिन वहां पर 13 नए वेंटिलेटर बंद पड़े हैं. लंबे टाइम से उन्हें शुरू करवाने की कोशिश की जा रही है, लेकिन किसी ना किसी कारण से वो बंद हैं और कोरोना काल में मरीजों को दर-दर भटकना पड़ रहा है. प्रशासन की इसी लापरवाही से नाराज होकर बीजेपी विधायक जोश्वर गर्ग ने आत्मदाह की चेतावनी दे दी है.

 

अस्पताल में बंद पड़े वेंटिलेटर से नाराज

विधायक की तरफ से बताया गया है कि अस्पताल को जो नए वेंटिलेटर मिले हैं, उन्हें पिछले साल पीएम केयर्स फंड्स के जरिए खरीदा गया है. लेकिन फिर भी वो सारे वेंटिलेटर धूल चाट रहे हैं. प्रशासन की तरफ से लगातार कहा जा रहा है कि डॉक्टरों के आभाव में उन वेंटिलेटर मशीनों का इस्तेमाल नहीं हो पा रहा है. इस बारे में बीजेपी विधायक ने लिखा है कि ये वेंटिलेटर लगभग एक साल पहले आ गए थे. अधिकांश वेंटिलेटर पीएम केअर फंड से खरीद कर भारत सरकार ने भेजे थे. एक-दो तत्कालीन जिला कलेक्टर श्री हिमांशु जी गुप्ता के प्रयासों से दानदाताओं ने दिए थे. गुप्ता जी भी इन्हें चालू नहीं करवा पाए. वर्तमान प्रशासन भी हाथ खड़े कर चुका है.

जोश्वर गर्ग की तरफ से दावा किया गया है कि राजस्थान में ऐसे 1500 वेंटिलेटर मौजूद हैं जो सिर्फ नाम के लिए वहां पर रखे गए हैं, लेकिन उनका इलाज मरीजों के उपचार में नहीं हो रहा है. उन्होंने इसे राजस्थान की गहलोत सरकार की संवेदनहीनता बता दी है. उनके मुताबिक उन्होंने प्रदेश सरकार के मुख्यमंत्री और चिकित्सा मंत्री से इस बारे में चर्चा की लेकिन अब तक वेंटिलेटर मशीनें शुरू नहीं हो पाई हैं. ऐसे जब उनके तमाम प्रयास असफल साबित हुए तब उन्होंने आत्मदाह करने की चेतावनी दे दी.

वैक्सीनेशन पर भी उठा दिए सवाल

वैसे विधायक ने राजस्थान में हो रही वैक्सीनेशन पर भी सवाल खड़े कर दिए हैं. उन्होंने दावा किया है कि वैक्सीनेशन के लिए विधायक कोष से राशि देने के लिए कहा गया है, लेकिन फिर भी किसी की राशि स्वीकृत नहीं हो पा रही है. वे कहते हैं कि विधायक कोष से मैंने ₹ 25 लाख रुपए की अनुशंसा दी थी. उस संबंध में पत्र भी भेजा था लेकिन अब तक राशि स्वीकृत नहीं हो पाई है, ऐसे में ऑक्सीजन कंसंट्रेटर की खरीदी भी नहीं हो पा रही है. जोश्वर की तरफ से बीजेपी के प्रदेश उपाध्यक्ष पर भी निशाना साधा गया है. कुछ समय पहले बीजेपी के प्रदेश उपाध्यक्ष ने ऐलान किया था कि वे 18+ के टीकाकरण के लिए 1 करोड़ रुपये की सहायता देंगे. लेकिन इस पर तंज कसते हुए जोश्वर ने कहा है कि महज वाह वाही लूटने के लिए अनुशंसा के लिए पत्र भेजा है लेकिन पिछले लंबे समय से वित्तीय स्वीकृति नहीं होने से विधायक कोष से ₹1 तक नहीं मिल पा रहा है.


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें