scorecardresearch
 

'सरकार तो बन जाती है, पर दोबारा नहीं आती', सचिन पायलट का सीएम गहलोत पर तंज

सचिन पायलट ने कहा, राजस्थान में सरकार तो बन जाती है, लेकिन दोबारा कभी रिपीट नहीं होती. कभी 20 तो कभी 50 सीट ही आती है. हालांकि, बाद में उन्होंने बात संभालते हुए ये भी कहा कि कैसे हमारी सरकार दोबारा आए, उसको लेकर कुछ सुझाव भी दिए हैं.

अशोक गहलोत और सचिन पायलट (फाइल फोटो-PTI) अशोक गहलोत और सचिन पायलट (फाइल फोटो-PTI)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • सचिन पायलट ने सीएम अशोक गहलोत पर कसा तंज
  • बोले- राजस्थान में कभी सरकार रिपीट नहीं होती
  • बाद में कहा, रिपीट कैसे हो, इसके सुझाव दिए हैं

राजस्थान के पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट (Sachin Pilot) ने बुधवार को जासूसी कांड को लेकर प्रेस कॉन्फ्रेंस की. कॉन्फ्रेंस से जाते-जाते पायलट मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) पर तंज कसना नहीं भूले.

पायलट ने कहा, राजस्थान में सरकार तो बन जाती है, लेकिन दोबारा कभी रिपीट नहीं होती. कभी 20 तो कभी 50 सीट ही आती है. हालांकि, बाद में उन्होंने बात संभालते हुए ये भी कहा कि कैसे हमारी सरकार दोबारा आए, उसको लेकर कुछ सुझाव भी दिए हैं.

प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान पायलट से जब कैबिनेट फेरबदल (Cabinet Reshuffle) और अजय माकन (Ajay Maken) के रीट्वीट को लेकर सवाल किए गए, तो उन्होंने इस पर तो कुछ नहीं कहा. लेकिन जाते-जाते कहने लगे, "राजस्थान में सरकार तो बन जाती है, लेकिन कभी दोबारा रिपीट नहीं होती."

हालांकि, बाद में बात को संभालते हुए कहते, "हम सरकार कभी रिपीट नहीं करा पाते हैं. इस बार हमारी जिम्मेदारी है कि हम कांग्रेस की सरकार दोबारा रिपीट करवाएं."

ये भी पढ़ें-- राजस्थान: पायलट-गहलोत विवाद भी जल्द सुलझने के आसार! सुलह के ये हो सकते हैं 5 फॉर्मूले 

सचिन पायलट ने कहा कि विधानसभा चुनाव में दोबारा कांग्रेस की सरकार कैसे बनी, इसको लेकर कुछ सुझाव दिए हैं और उम्मीद है कि इन सुझावों पर आगे काम किया जाएगा.

पंजाब में नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) के कांग्रेस अध्यक्ष बनने के सवाल पर उन्होंने कहा कि "मैं 21 साल से देख रहा हूं कि कांग्रेस अध्यक्ष के फैसले पर कोई सवाल नहीं उठा सकता. एक बार फैसला हो जाता है तो सब लोग उसे मानते हैं."

पायलट बोले- जासूसी कांड की जांच कराए सरकार

पायलट ने इसरायली कंपनी NSO के पेगासस (Pegasus) सॉफ्टवेयर के जरिए फोन टैपिंग के मामले की जांच की मांग की है. पायलट ने कहा कि जिस तरह के खुलासे हुए हैं, वो लोकतंत्र के लिए खतरनाक हैं. उन्होंने कहा कि देश में स्वतंत्र एजेंसी से इस पूरे मामले की जांच कराई जानी चाहिए. हालांकि, गहलोत सरकार के फोन टैपिंग कांड को लेकर पूछे गए सवालों को पायलट टाल गए और कहा कि राज्य सरकार इसका जवाब दे चुकी है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें