scorecardresearch
 

राजस्थान: CM गहलोत का बड़ा ऐलान, टीकाकरण के लिए MLA फंड से 3 करोड़ लेने का फैसला वापस

राजस्थान में सीएम हाउस में विधायक दल की बैठक होगी. इसके बाद विधायक वहीं डिनर करेंगे. डिनर का यह प्रबंध भी सीएम गहलोत ने किया है.

सीएम हाउस पहुंचे कांग्रेस विधायक सीएम हाउस पहुंचे कांग्रेस विधायक
स्टोरी हाइलाइट्स
  • अशोक गहलोत ने अपने आवास पर विधायक दल की बैठक बुलाई
  • सीएम हाउस में ही विधायकों को डिनर भी कराया जाएगा

राजस्थान में जारी कांग्रेस संकट के बीच आज गुरुवार को सीएम अशोक गहलोत के आवास पर विधायक दल की बैठक बुलाई गई. इसमें कई अहम फैसले लिए गए. राजस्थान सरकार ने वैक्सीनेशन के लिए विधायक कोष से तीन करोड़ की राशि लेने के फैसले को वापस ले लिया है. अब विधायक इस राशि को अन्य विकास कार्यों में लगा सकेंगे. बता दें कि बैठक में टोंक विधायक सचिन पायलट नहीं पहुंच पाए थे.

राजस्थान के पार्टी प्रभारी अजय माकन संग मुलाकात के बाद अब विधायकों को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अपने आवास पर बुलाया था. यहीं विधायक दल की बैठक और उसके बाद डिनर हुआ.

गहलोत बोले - पुरानी बातों को भूलकर आगे बढ़ें विधायक

बैठक के बाद बताया गया कि सरकार ने वैक्सीनेशन के लिए विधायक कोष से तीन करोड़ की राशि लेने के फैसले को वापस ले लिया है. अब विधायक अपने हिसाब से कोष की राशि खर्च कर सकेंगे. सीएम गहलोत ने इस पर कहा कि विकास कार्यों में कोई कमी नहीं आने दी जाएगी. इसके साथ-साथ विधायकों से कहा कि पुरानी बातों को भूलकर आगे बढ़ना चाहिए.

सीएम ने सभी विधायकों को विकास कार्यों की डायरेक्टरी छपवाने के निर्देश दिए हैं. अगले दो-तीन महीनों में विधायक अपने क्षेत्र में विकास कार्यों की विवरण वाली डायरेक्टरी छपवा लेंगे.

वहीं राजस्थान प्रभारी अजय माकन ने जानकारी दी कि विधायकों के फीडबैक में काफी अच्छा रिस्पांस मिला है. माकन ने बताया कि सरकार का पूरा फोकस प्रदेश में विकास कार्यों पर है.

सचिन पायलट नहीं हो पाए शामिल

मिली जानकारी के मुताबिक, सचिन पायलट को विधायक दल की बैठक की सूचना आखिरी वक्त पर मिली थी. जयपुर से बाहर होने की वजह से वह विधायक दल की बैठक में शामिल नहीं हुए. बता दें कि शुक्रवार दोपहर को मुख्यमंत्री गहलोत कांग्रेस के पदाधिकारियों को लंच का न्योता देंगे. लंच का कार्यक्रम भी सीएम हाउस में है. इस लंच में अजय माकन भी शामिल होंगे.

अजय माकन ने विधायकों से की थी रायशुमारी

इससे पहले अजय माकन से मुलाकात के बाद बड़ी संख्या में विधायकों ने युवा चेहरों को मौका देने की बात रखी थी. सभी विधायकों ने मंत्रिमंडल में फेरबदल और विस्तार को जल्द से जल्द करने को कहा था. अजय माकन संग मीटिंग में सचिन पायलट के करीबी विधायकों ने प्रदेश अध्यक्ष और शिक्षा मंत्री गोविन्द सिंह डोटासरा का समर्थन किया. उन्होंने कहा कि शिक्षा मंत्री पर झूठे आरोप लगाए जा रहे हैं.

रायशुमारी के बाद यह भी जानकारी मिली थी कि विधायकों ने चार मंत्रियों के खिलाफ मोर्चा खोला है. साथ ही साथ अधिकारियों की मनमानी और सरकार में काम नहीं होने की बात भी कही गई थी. फीडबैक के दौरान भी विधायक पायलट और गहलोत गुट में बंटे दिखे थे.

अजय माकन संग विधायकों की बातचीत में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और सचिन पायलट शामिल नहीं हुए थे. इस बीच सचिन पायलट ने गांधी परिवार से दिल्ली में मुलाकात की थी. माना जा रहा है कि अजय माकन द्वारा रिपोर्ट सौंपने के बाद 1 बार फिर से मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और सचिन पायलट कांग्रेस आलाकमान से मिलेंगे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें