scorecardresearch
 

राजस्थान की जंग: सीएम गहलोत के समर्थन में निर्दलीय विधायक, बोले- पायलट ने कभी संघर्ष नहीं किया

निर्दलीय विधायकों ने कहा कि राजस्थान में अशोक गहलोत ही कांग्रेस हैं. इसमें कोई शक नहीं है. वे अशोक गहलोत के साथ हैं. अब इस मीटिंग में संयम लोढ़ा ने आगे बढ़कर यहां तक कह दिया कि वे मंत्री बनने नहीं आए हैं, अगर कांग्रेस ने उन्हें पोछा लगाने को भी कहा तो वे वो काम भी करने को तैयार हैं.

सचिन पायलट पर गहलोत गुट का निशाना सचिन पायलट पर गहलोत गुट का निशाना
स्टोरी हाइलाइट्स
  • सचिन पायलट पर गहलोत गुट का निशाना
  • 'पायलट ने कभी संघर्ष नहीं किया'

राजस्थान में कांग्रेस की अंदरूनी लड़ाई पार्टी के लिए चिंता का विषय बन ही रही है. साथ ही साथ सीएम अशोक गहलोत और सचिन पायलट के बीच दूरियों को भी बढ़ाने वाली साबित हो रही है. लगातार हो रही बैठकें और आरोप-प्रत्यारोप की वजह से राजस्थान का ये सियासी ड्रामा कम होने के बजाय सिर्फ बढ़ता जा रहा है. अब इस लड़ाई में सीएम अशोक गहलोत लीड लेते दिख रहे हैं. उन्हें सभी 13 निर्दलीय विधायकों का समर्थन मिल गया है.

कांग्रेस में शामिल हुए राजस्थान के 13 निर्दलीय विधायकों ने बुधवार को सचिन पायलट के खिलाफ जयपुर के सर्किट हाउस में क़रीब एक घंटे तक बैठक की. बैठक के बाद प्रेस कॉन्फ़्रेन्स करने आए संयम लोढ़ा ने कहा कि हम लोग यहां पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नीतियों के खिलाफ़ बोलने आए थे लेकिन जब बोलना शुरू हुआ तो निशाना सचिन पायलट पर रहा. 

सचिन पायलट पर गहलोत गुट का निशाना

संयम लोढ़ा ने सारे विधायकों को फोन कर ये मीटिंग बुलाई थी, लेकिन जब उनसे यहीं सवाल पूछा गया तो वे चुप्पी साध गए. संयम लोढ़ा ने कहा कि सचिन पायलट भाग्यशाली हैं कि राजेश पायलट के घर में पैदा हुए और चुनाव हारने के बाद प्रदेशाध्यक्ष बनें और उपमुख्यमंत्री बने. उन्होंने कभी संघर्ष नहीं किया.

निर्दलीय विधायकों ने कहा कि राजस्थान में अशोक गहलोत ही कांग्रेस हैं. इसमें कोई शक नहीं है. वे अशोक गहलोत के साथ हैं. अब इस मीटिंग में संयम लोढ़ा ने आगे बढ़कर यहां तक कह दिया कि वे मंत्री बनने नहीं आए हैं, अगर कांग्रेस ने उन्हें पोछा लगाने को भी कहा तो वे वो काम भी करने को तैयार हैं. अब ये बयान भी उन्हें इसलिए देना पड़ गया क्योंकि बहुजन समाज पार्टी के विधायक राजेंद्र सिंह गुढ़ा ने आरोप लगाया था कि संयम लोढ़ा मंत्री बनने के लिए छटपटा रहे हैं. 

क्लिक करें- राजस्थान: गहलोत बनाम पायलट गुट की लड़ाई चरम पर, दोनों तरफ से तीखी बयानबाजी 

गहलोत गुट में पड़ गई फूट?

वैसे जो विधायक इस मीटिंग का हिस्सा बने थे, उनमें से ज्यादातर का टिकर दो बार हारने की वजह से कटा था. संयम लोढ़ा का टिकट भी लगातार दो बार हारने की वजह से कटा था. लेकिन संयम लोढ़ा टिकट कटने के लिए सचिन पायलट को जिम्मेदार मानते हैं. अब गहलोत गुट खुद को एकजुट दिखाने की पूरी कोशिश कर रहा है, लेकिन ऐसा हो नहीं पा रहा. बुधवार को हुई मीटिंग में भी बहुजन समाज पार्टी और निर्दलीय विधायकों की बैठक में फूट पड़ गई और अशोका होटल में दोनों के बीच तू तू मैं शुरू हो गई. जब विवाद बढ़ा तो निर्दलीय विधायकों को सर्किट हाउस में आना पड़ा. इस बैठक में राजस्थान के सभी तेरा निर्दलीय विधायक शामिल हुए. 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें