scorecardresearch
 

राजस्थान: किसानों ने फाड़े थे BJP नेता कैलाश मेघवाल के कपड़े, 30 के खिलाफ केस दर्ज

राजस्थान के श्रीगंगानगर में कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसानों ने बीजेपी नेता कैलाश मेघवाल के साथ मारपीट की थी. पुलिस ने इस केस में 30 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है.

X
बीजेपी नेता कैलाश मेघवाल के साथ हुई थी बदसलूकी. बीजेपी नेता कैलाश मेघवाल के साथ हुई थी बदसलूकी.
स्टोरी हाइलाइट्स
  • किसानों ने फाड़े थे बीजेपी नेता के कपड़े
  • कृषि कानूनों के खिलाफ जारी था प्रदर्शन
  • 30 लोगों के खिलाफ पुलिस ने दर्ज किया केस
  • BJP ने कांग्रेस पर लगाए गंभीर आरोप

राजस्थान में भारतीय जनता पार्टी (BJP) के अनुसूचित जाति मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष कैलाश मेघवाल (Kailash Meghwal) के साथ श्रीगंगानगर में कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसानों ने शुक्रवार को मारपीट की थी और उनके कपड़े फाड़ दिए थे. राज्य पुलिस ने 30 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया है. जिसमें पृथ्वीपाल संधू, अमर सिंह बिश्नोई, हेतराम बेनीवाल और गुरुबल पाल संधू के खिलाफ पुलिस ने नामजद केस दर्ज किया है.

दरअसल बीजेपी कार्यकर्ताओं का कलेक्ट्रेट सर्किल के पास सिंचाई के लिए पानी की मांग और महंगाई के मुद्दे पर अशोक गहलोत सरकार के खिलाफ शुक्रवार को धरना प्रदर्शन चल रहा था. दूसरी तरफ गंगा चौराहे पर तीनों कृषि कानूनों के खिलाफ किसान आंदोलन कर रहे थे. कुछ समय बाद बीजेपी नेताओं और किसानों के बीच हाथापाई की नौबत आ गई.

आरोप है कि कुछ लोगों ने बीजेपी नेता और पार्टी के एससी मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष कैलाश मेघवाल के कपड़े फाड़ दिए और उनके साथ मारपीट की. बीजेपी नेताओं ने राज्य की अशोक गहलोत सरकार पर सवालिया निशान खड़े किए और कानून व्यवस्था को लेकर निशाना साधा.

राजस्थान: कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसानों ने BJP नेता के कपड़े फाड़े, पुलिस ने किया लाठीचार्ज
 

बीजेपी पर प्रायोजित सिंहा करा रही है कांग्रेस!

बीजेपी के राष्ट्रीय महामंत्री अरुण सिंह ने ट्वीट किया, 'गहलोत जी की पुलिस कानून व्यवस्था संभालना भूल चुकी है. राजस्थान की कांग्रेस सरकार जो की नाकामियों का पुलिंदा है, अब इस कदर डर गई है कि लोकतंत्र को कुचलने के लिये अपने राजनैतिक प्रतिद्वंदियों पर प्रायोजित हिंसा करा रही है. लेकिन याद रखिये ऐसे कायरतापूर्ण घटना से भाजपा डरती नहीं है.'

मौन साजिश रच रही है गहलोत सरकार!

वहीं बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने कहा कि ऐसी घटनाएं राज्य की कांग्रेस सरकार की मौन साजिशों की ओर इशारा करती हैं. दरअसल राजस्थान में किसान बीते 8 महीने से तीनों नए कृषि कानूनों को लेकर आंदोलन कर रहे हैं. श्रीगंगानगर, सीकर और शाहजहांपुर में किसान कृषि आंदोलन को लेकर केंद्र सरकार से बेहद नाराज हैं.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें