scorecardresearch
 
राजस्थान

दौसा: शराब दुकान की लगी इतनी महंगी बोली कि कंप्यूटर ने 'बोल दिया'- बस!

शराब दुकान की रिकॉर्डतोड़ नीलामी
  • 1/15

राजस्थान में शराब की दुकानों के लिए लगने वाली बोली जबरदस्त चर्चा में हैं. पहले हनुमानगढ़ जिले के नोहर के एक शराब की दुकान के 510 करोड़ की बोली लगी थी, अब उस रिकॉर्ड को तोड़ते हुए दौसा में एक शराब की दुकान के लिए ऐसी बोली लगाई गई है, जिसका दाम तब तक बढ़ता गया जब तक कम्प्यूटर सिस्टम में डालने के लिए अंक ही समाप्त हो गए. 

प्रतीकात्मक तस्वीर- Getty

शराब दुकान की रिकॉर्डतोड़ नीलामी
  • 2/15

दरअसल, यह बोली पूरे राजस्थान में चर्चा का विषय बन गई है. राजस्थान आबकारी विभाग द्वारा पहली बार प्रदेश में शराब के ठेकों की ऑनलाइन बोली लगाई जा रही है. दौसा जिले के साहपुर पाखर गांव के शराब के ठेके के लिए ऑनलाइन बोली लगाई जा रही थी. इस बोली में करण सिंह गुर्जर और नवल किशोर मीणा भाग ले रहे थे.

प्रतीकात्मक तस्वीर- Getty

शराब दुकान की रिकॉर्डतोड़ नीलामी
  • 3/15

इन दोनों ने ही बोली लगाना शुरू किया और कंपटीशन में बोली 999 करोड़ रुपए से अधिक तक पहुंच गई. प्रथम बोली दाता करण सिंह गुर्जर ने 999 करोड़ 95 लाख 216 रुपए की बोली लगाई दूसरे नंबर पर बोलीदाता नवल किशोर मीना रहे. नवल किशोर ने भी करीब 999 करोड़ 90 हजार 216 रुपए की बोली लगाई. 

प्रतीकात्मक तस्वीर- Getty

शराब दुकान की रिकॉर्डतोड़ नीलामी
  • 4/15

बोली के दौरान ही 1000 हजार करोड़ या इससे से आगे कंप्यूटर में अमाउंट लेना ही बंद कर दिया वरना दोनों प्रतिद्वंदी अभी आगे भी अपनी बोली जारी रखते. आबकारी विभाग के जिला आबकारी अधिकारी अनिल कुमार जैन ने बताया कि करण सिंह गुर्जर और नवल किशोर मीना ने बोली 999 करोड़ रुपए से अधिक तक पहुंचाई है.

प्रतीकात्मक तस्वीर- Getty

शराब दुकान की रिकॉर्डतोड़ नीलामी
  • 5/15

बताया गया कि अब ठेका लेने लिए पहले करण गुर्जर और फिर नवल मीना को मौका दिया जाएगा. यदि बोलीदाताओं के द्वारा शराब का ठेका लिया जाता है तो ठीक है वरना दोनों ही बोली दाताओं को 3 साल के लिए ब्लैकलिस्टेड किया जाएगा, जिसके बाद दोनों ही बोलीदाता आबकारी विभाग की दुकान व बीयर बार की बोलियों में भाग नहीं ले सकेंगे.

प्रतीकात्मक तस्वीर- Getty

शराब दुकान की रिकॉर्डतोड़ नीलामी
  • 6/15

इसके साथ ही अमानत राशि दो लाख रुपए व 60 हजार आवेदन शुल्क को जब्त किया जाएगा. इधर यह सम्भावना जताई जा रही है कि दोनों ने नाक की लड़ाई के लिए बोली में कंपटीशन किया और 999 करोड़ से अधिक तक बोली पहुंचा दी.

प्रतीकात्मक तस्वीर- Getty

शराब दुकान की रिकॉर्डतोड़ नीलामी
  • 7/15

इस दुकान की न्यूनतम रिजर्व प्राइज 1 करोड़ 84 लाख 65 हजार 216 रुपए थी. जो बोली के माध्यम से 999 करोड़ से अधिक पहुंच गई. यह बोली 10 अप्रैल को सुबह 11 बजे से 4 बजे तक पांचवें चरणमें  लगाई गई थी. बोली के दौरान एक बार में कम से कम 5 हजार व अधिकतम बोली की राशि का 5 प्रतिशत हिस्सा ही बढ़ाया जा सकता था.

प्रतीकात्मक तस्वीर- Getty

शराब दुकान की रिकॉर्डतोड़ नीलामी
  • 8/15

यह पहला मामला नहीं है जब राजस्थान में ऐसी बोली लगी हो. अभी हाल ही में हनुमानगढ़ जिले के कुईंयां में शराब की दुकान की बोली लगाई जा रही थी. शराब दुकान के लिए बोली 72 लाख से शुरू हुई और लगातार बढ़ती जा रही थी. इस शराब दुकान पर कब्जे के लिए एक ही परिवार की दो महिलाओं में होड़ मच गई.

प्रतीकात्मक तस्वीर- Getty

शराब दुकान की रिकॉर्डतोड़ नीलामी
  • 9/15

यह बोली सुबह 11 बजे से शुरू हुई बोली रात 2 बजे जाकर 510 करोड़ रुपये पर समाप्त हुई. इस बोली में बताया गया है कि कुईंया गांव की ये शराब की दुकान पिछले वर्ष महज 65 लाख में बिकी थी. 

प्रतीकात्मक तस्वीर- Getty

शराब दुकान की रिकॉर्डतोड़ नीलामी
  • 10/15

इस वर्ष इस शराब की दुकान की बोली 72 लाख से शुरू की गई. इस दुकान की खरीद को लेकर कुईंया गांव के एक ही परिवार की दो महिलाओं में बहस छिड़ गई और बोली 510 करोड़ रुपये पर जाकर समाप्त हुई.

प्रतीकात्मक तस्वीर- Getty

शराब दुकान की रिकॉर्डतोड़ नीलामी
  • 11/15

बता दें कि राजस्थान में शराब की दुकानों की इस तरह बोली लगाने का लोगों द्वारा विरोध भी किया जा रहा है. जो दुकानें पांच से दस लाख में बिकती थी, वो इस बार पांच से दस करोड़ में बिकी हैं. 

प्रतीकात्मक तस्वीर- Getty

शराब दुकान की रिकॉर्डतोड़ नीलामी
  • 12/15

पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने सभी बेरोजगारों को मौका देने के लिए और शराब माफियाओं को खत्म करने के लिए बोली का सिस्टम समाप्त कर लॉटरी का सिस्टम रखा था. 

प्रतीकात्मक तस्वीर- Getty

शराब दुकान की रिकॉर्डतोड़ नीलामी
  • 13/15

लेकिन मुख्यमंत्री अशोक गहलोत 15 साल पुरानी व्यवस्था को खत्म कर फिर से दुकानों की नीलामी करवा रहे हैं. शराब की दुकानों की लग रही बोली से सरकार को हजारों करोड़ रुपये राजस्व के रूप में प्राप्त हो चुके हैं. 

प्रतीकात्मक तस्वीर- Getty

शराब दुकान की रिकॉर्डतोड़ नीलामी
  • 14/15

इसी बोली के चलते यह भी कहा जाने लगा कि राजस्थान में अब शराब की दुकानें 'किस्मत वालों' की नहीं बल्कि 'पैसों वालों' की हैं. शराब के ठेकों के नए मालिक अब लॉटरी की बजाय नीलामी से हो तय हो रहे हैं. 

प्रतीकात्मक तस्वीर- Getty

शराब दुकान की रिकॉर्डतोड़ नीलामी
  • 15/15

हालांकि ऐसे मामले भी सामने आए हैं जब दुकान के लिए अरबों रुपयों की बोली लगाकर लोग राशि जमा करवाने से मुकर भी रहे हैं. हालांकि इन सबके बावजूद भी लोग इन बोलियों में बढ़-चढ़कर हिस्सा ले रहे हैं. 

प्रतीकात्मक तस्वीर- Getty