scorecardresearch
 

Punjab School Re-Open: पंजाब में कल से खुलेंगे स्कूल, कोरोना मामलों में गिरावट के चलते लिया गया फैसला

पंजाब सरकार ने सोमवार से राज्य के सभी स्कूलों को खोलने का फैसला किया है. यह फैसला कोविड-19 के मरीजों की संख्या में आई गिरावट के बाद लिया गया है.

X
प्रतीकात्मक तस्वीर प्रतीकात्मक तस्वीर
स्टोरी हाइलाइट्स
  • पंजाब में कल से खुलेंगे स्कूल
  • सुबह आठ बजे से दोपहर 2 बजे तक अनुमति

पंजाब सरकार ने सोमवार से राज्य के सभी स्कूलों को खोलने का फैसला किया है. यह फैसला कोविड-19 के मरीजों की संख्या में आई गिरावट के बाद लिया गया है. सोमवार से प्री नर्सरी से लेकर कक्षा दो तक सभी कक्षाएं नियमित रूप से चलेंगी.

पंजाब के स्कूल शिक्षा मंत्री विजय इंदर सिंगला ने रविवार को बताया कि कोविड की मौजूदा स्थिति के मद्देनज़र शिक्षा विभाग 2 अगस्त से सभी कक्षाओं के लिए स्कूल दोबारा खोलने के लिए पूरी तरह तैयार है. मंत्री ने बताया कि स्कूलों में प्री-प्राइमरी से सीनियर सेकेंडरी तक सभी कक्षाएं पहले की तरह (फिजिकल ढंग से) चलाई जाएंगी. उन्होंने आगे कहा कि स्कूल का समय सुबह काल 8 बजे से दोपहर 2 बजे तक रहेगा और बच्चों को स्कूल में भेजने से पहले माता-पिता को अपनी लिखित सहमति देनी होगी.

विजय इंदर सिंगला ने कहा कि विद्यार्थियों के मूल्यांकन के बाद अध्यापकों की तरफ से उन विषयों पर और ज्यादा ध्यान दिया जा सकेगा जिनके लिए और ज्यादा ध्यान की ज़रूरत होगी. उन्होंने कहा कि स्कूल दोबारा खुलने से अध्यापकों को प्रैक्टिकल विषयों को बेहतर तरीके से पढ़ाने के लिए प्रैक्टिकल क्लासें उपलब्ध करवाने का मौका भी मिलेगा. 

सिंगला ने शिक्षा विभाग के अधिकारियों और स्कूल प्रबंधकों को यह भी निर्देश दिए कि स्कूल के आसपास और क्लास रूमों की उचित सफाई को बनाया जाए और भारत सरकार और पंजाब सरकार की तरफ से समय-समय पर कोविड-19 सम्बन्धी जारी किए गए दिशा -निर्देशों और सुरक्षा नियमों का सख्ती से पालन किया जाए. 

उन्होंने आगे कहा कि इस संबंध में सभी जिला शिक्षा अधिकारियों को विस्तृत दिशा-निर्देश जारी कर दिए गए हैं जो कि सभी स्कूलों को भी भेजे जा चुके हैं. वहीं ज्यादातर अभिभावकों और स्कूल संचालकों ने राज्य सरकार के स्कूल खोलने के फैसले का स्वागत किया है. अभिभावकों का मानना है की वैक्सीनेशन के बाद अब राज्य में संक्रमण की दर कम हो गई है इसलिए स्कूल खोलने का फैसला सही है. 

मोहाली के बूथगढ़ से संबंध रखने वाले कुलविंदर कौर और उनके पति जसपाल सिंह ने 'आजतक' को बताया की सामान्य कक्षा और ऑनलाइन कक्षाओं में दिन-रात का फर्क है, क्योंकि बच्चे मोबाइल हाथ में आते ही उस पर गेम खेलने लगते हैं और उनका ध्यान बंट जाता है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें