scorecardresearch
 

अगवा किए गए एसपी और उनके साथियों को ढूंढ़ने में कामयाब रही पुलिस

एसपी सलविंदर सिंह और उनके दोस्त जम्मू-पठानकोट नेशनल हाइवे पर स्थित एक धार्मिक स्थल गए हुए थे, जहां से घर लौटते वक्त शाम करीब चार बजे हथियारबंद बदमाशों ने उन्हें अगवा कर लिया था.

X

पठानकोट-जम्मू हाईवे से दो दोस्तों के साथ अगवा किए गए पंजाब के गुरदासपुर के एसपी सलविंदर सिंह का पता लगाने में पुलिस कामयाब रही है. हथियारबंद बदमाशों ने शुक्रवार सुबह उन्हें अगवा किया था. जब पुलिस ने उन्हें बरामद किया तो सलविंदर के दोस्त जख्मी हालत में मिले.

पठानकोट के एसपी आरके बख्शी ने बताया कि एसपी सलविंदर सिंह और उनके दोस्त अकालगढ़ में मिले. अगवा करने वालों ने सीनियर पुलिस अधिकारी को कोई चोट नहीं पहुंचाई. उनके दोनों दोस्तों को अमनदीप हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है.

धार्मिक स्थल से लौटते वक्त हुई घटना
पुलिस के मुताबिक, एसपी सलविंदर सिंह और उनके दोस्त जम्मू-पठानकोट नेशनल हाइवे पर स्थित एक धार्मिक स्थल गए हुए थे, जहां से घर लौटते वक्त सुबह करीब चार बजे हथियारबंद बदमाशों ने उन्हें अगवा कर लिया था. घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस उनकी तलाश शुरू कर दी.

कुछ दूर के बाद छोड़ दी थी कार
कार्रवाई के दौरान पहले अकालगढ़ से उनकी कार बरामद हुई और बाद में पुलिस तीनों को ढूंढ़ने में कामयाब रही. पुलिस ने बताया कि बदमाशों ने करीब पांच किलोमीटर आगे जाने के बाद गाड़ी को छोड़ दिया था और दूसरे वाहन से आगे बढ़े थे. एसपी बख्शी ने कहा कि पुलिस मामले की तहकीकात कर रही है.

उन्होंने कहा कि अगवा करने वाले लोग कौन थे इस बात का पता नहीं चल पाया है. पुलिस ने अज्ञात लोगों के खिलाफ अपहरण का केस दर्ज किया है. पुलिस इस बात की भी जांच कर रही है कि कहीं अगवा करने वाले लोग आतंकवादी तो नहीं थे और इस घटना के पीछे वजह क्या थी. अब तक किसी आतंकी संगठन ने इसकी जिम्मेदारी नहीं ली.

आतंकियों के निशाने पर है पंजाब पुलिस
पंजाब की पुलिस लगातार आतंकियों के निशाने पर रही है. बता दें कि 27 जुलाई 2015 को तीन हथियार बंद आतंकियों ने सेना की वर्दी में एक बस पर हमला बोला था और उसके बाद गुरदासपुर के दीनानगर पुलिस स्टेशन को भी निशाना बनाया था. इस हमले में तीन आम नागरिकों और चार पुलिसकर्मियों की मौत हुई थी, जिनमें एक एसपी भी शामिल हैं. इनके अलावा 15 अन्य लोग घायल भी हुए थे. करीब 12 घंटे तक चले ऑपरेशन के बाद सभी आतंकियों को मार गिराया गया था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें