scorecardresearch
 

गाजीपुर बॉर्डर के बजाय जंतर-मंतर जाने से कैसे बनेगी बात, Rakesh Tikait ने बताया

गाजीपुर बॉर्डर के बजाय जंतर-मंतर जाने से कैसे बनेगी बात, Rakesh Tikait ने बताया

200 किसान दिल्ली बॉर्डर से संसद से महज 2 किलोमीटर दूर जंतर-मंतर पहुंच चुके हैं. किसानों का एक ही उद्देश्य है, अपनी आवाज संसद तक पहुंचाना, अपनी मांग सरकार से मनवाना. इसके लिए उन्होंने अपने आंदोलन को और बड़ा कर दिया है. किसानों ने जंतर मंतर पर अपनी संसद भी शुरू कर दी है. किसान आज से मानसून सत्र खत्म होने तक हर रोज जंतर-मंतर पर 6 घंटे अपनी संसद करेंगे. लेकिन आखिर गाजीपुर बॉर्डर के बजाय जंतर-मंतर आ जाने से बात कैसे बनेगी? देखें इस पर क्या बोले किसान नेता राकेश टिकैत.

200 farmers have reached Jantar Mantar from the Delhi border, just 2 km from Parliament. The farmers want their voices to reach the Parliament, to get their demand fulfilled by the government. Farmers have started their Parliament at Jantar Mantar. Farmers will hold their Parliament for 6 hours every day till the end of the monsoon session. But how will it make a difference? Rakesh Tikait told.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें