scorecardresearch
 

द्रौपदी मुर्मू होंगी NDA की तरफ से राष्ट्रपति उम्मीदवार, जेपी नड्डा ने किया ऐलान

राष्ट्रपति चुनाव के लिए बीजेपी की तरफ से अपने उम्मीदवार के नाम का ऐलान कर दिया गया है. पार्टी ने द्रौपदी मुर्मू को अपना प्रत्याशी घोषित कर दिया है.

X
द्रौपदी मुर्मू होंगी NDA की तरफ से राष्ट्रपति उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू होंगी NDA की तरफ से राष्ट्रपति उम्मीदवार
5:36
स्टोरी हाइलाइट्स
  • देश को पहली आदिवासी महिला राष्ट्रपति देने की तैयारी
  • झारखंड की पहली आदिवासी राज्यपाल रह चुकीं द्रौपदी मुर्मू

राष्ट्रपति चुनाव के लिए बीजेपी की तरफ से अपने उम्मीदवार के नाम का ऐलान कर दिया गया है. पार्टी ने द्रौपदी मुर्मू को अपना प्रत्याशी घोषित कर दिया है. बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने द्रौपदी मुर्मू के नाम का ऐलान करते वक्त इस बात पर जोर दिया कि इस बार एक महिला आदिवासी राष्ट्रपति को मौका मिलना चाहिए.

प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान जेपी नड्डा ने कहा कि देश को पहली बार आदिवासी समुदाय से एक राष्ट्रपति देने की तैयारी है.  वे बताते हैं कि इस बार पूर्वी भारत से किसी को मौके देने पर सभी के बीच में सहमति बनी थी. हमने इस बात पर भी विचार किया कि अभी तक देश को आदिवासी महिला राष्ट्रपति नहीं मिली हैं. ऐसे में बैठक के बाद द्रौपदी मुर्मू के नाम पर मुहर लगाई गई.

बीजेपी अध्यक्ष ने इस बात पर भी जोर दिया कि द्रौपदी मुर्मू ने अपने जीवन में लंबे समय तक शिक्षक के रूप में काम किया. जिस प्रकास से सर्वपल्ली राधाकृष्णन शिक्षा के क्षेत्र में लगातार सक्रिय रहे थे, वैसे ही द्रौपदी मुर्मू ने भी एक अहम भूमिका निभाई है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी द्रोपदी मुर्मू के नाम का स्वागत किया है.

वे ट्वीट कर लिखते हैं कि द्रौपदी मुर्मू जी ने अपना जीवन गरीबों की सेवा में निकाला है. उन्हें कई सालों का प्रशासनिक अनुभव है. मुझे पूरा विश्वास है कि वे एक बेहतरीन राष्ट्रपति साबित होंगी. उनके नाम का ऐलान कर पार्टी ने एक तरफ आदिवासी समुदाय को साधने का काम किया है तो वहीं दूसरी तरफ महिला सशक्तिकरण को लेकर भी संदेश दिया है.

मुर्मू ने इस ऐलान के बाद अपनी प्रतिक्रिया दी है. वे कहती हैं कि मैं हैरान भी हूं और खुश भी. उन्हें इस बात की उम्मीद नहीं थी कि वे राष्ट्रपति उम्मीदवार बनाई जाएंगी.

द्रौपदी मुर्मू की बात करें तो वे देश की पहली आदिवासी राज्यपाल बनाई गई थीं. वे साल 2015 से 2021 तक झारखंड की राज्यपाल रहीं. राज्यपाल का पद संभालने से पहले द्रौपदी मुर्मू बीजेपी की S.T. मोर्चा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य रह चुकी थीं. इसके अलावा एक विधायक के रूप में भई द्रौपदी मुर्मू ने शानदार काम किया है. उन्हें साल 2007 में नीलकंठ अवॉर्ड से सम्मानित किया गया था. तब ओडिशा विधानसभा की तरफ से उन्हें वो अवॉर्ड दिया गया था. ऐसे में द्रौपदी मुर्मू ने अपने काम से हमेशा ही सभी के दिलों को जीता है, इसी पहलू को ध्यान में रखते हुए एनडीए ने भी उनके नाम को आगे करने का फैसला किया.

जानकारी के लिए बता दें कि देश के नए राष्ट्रपति का चुनाव 18 जुलाई को होना है. वोटों की गिनती 21 जुलाई को होगी. चुनाव आयोग ने इसके लिए अधिसूचना जारी कर दी है. अधिसूचना जारी किए जाने के साथ ही नामांकन की प्रक्रिया भी शुरू हो चुकी है. राष्ट्रपति चुनाव के लिए नामांकन की अंतिम तिथि 29 जून है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें