scorecardresearch
 

Monsoon session: सरकार को प्रवासी मजदूरों की मौत की जानकारी नहीं, आनंद शर्मा बोले- ये दुर्भाग्य की बात

कांग्रेस के आनंद शर्मा ने सरकार पर जोरदार निशाना साधा है. आनंद शर्मा ने कहा कि सरकार को कोरोना काल में प्रवासी मजदूरों की मौत की जानकारी नहीं है. ये देश के लिए दुर्भाग्य की बात है. 

कांग्रेस सांसद आनंद शर्मा (फाइल फोटो) कांग्रेस सांसद आनंद शर्मा (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • राज्यसभा में कोरोना पर चर्चा
  • आनंद शर्मा का सरकार पर निशाना
  • विपक्ष के सांसदों ने किया हंगामा

राज्यसभा में कोरोना महामारी पर चर्चा के दौरान कांग्रेस के आनंद शर्मा ने सरकार पर जोरदार निशाना साधा. आनंद शर्मा ने कहा कि सरकार को कोरोना काल में प्रवासी मजदूरों की मौत की जानकारी नहीं है. ये देश के लिए दुर्भाग्य की बात है. 

आनंद शर्मा ने कहा कि अचानक लगाए गए लॉकडाउन के कारण प्रवासी मजदूरों को नुकसान हुआ. कई मजदूरों की जान गई. वो बेरोजगार हुए. सरकार ने इसी सत्र में कहा कि प्रवासी मजदूरों की मौत जानकारी नहीं है, इस वजह से कोई मुआवजा भी नहीं दिया जा रहा. कांग्रेस सांसद ने कहा कि ये देश के लिए दुर्भाग्य की बात है. सरकार के पास क्यों आंकड़े नहीं है. हर राज्य के पास आंकड़े हैं. मुआवजा दिया जाना चाहिए. 

कांग्रेस सांसद ने कहा कि मैं चाहता हूं कि आगे के लिए प्रवासी मजदूरों का विवरण रखने के लिए एक नेशनल डेटा बेस बनाया जाए. आनंद शर्मा ने कहा कि सरकार बताए कि लॉकडाउन से कितना फायदा हुआ और कितना नुकसान हुआ.

कल स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि लॉकडाउन के निर्णय ने लगभग 14 से 29 लाख कोरोना के मामलों और 37,000-78,000 मौतों को रोका. आनंद शर्मा ने इस पर कहा कि सदन को सूचित किया जाना चाहिए कि वो वैज्ञानिक आधार क्या है जिसके आधार पर हम इस निष्कर्ष पर पहुंचे हैं.

आनंद शर्मा ने कहा कि अचानक 4 घंटे के नोटिस पर लॉकडाउन लगाया गया उससे लोगों को तकलीफ हुई. भारत की जो तस्वीर दुनिया में गई उससे हम इनकार नहीं कर सकते हैं.


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें