scorecardresearch
 

ओडिशा उपचुनाव: बीजेपी ने झोंकी पूरी ताकत, तीन केंद्रीय मंत्री करेंगे प्रचार

भाजपा ने मंगलवार को पिपिली विधानसभा उपचुनाव के लिए स्टार प्रचारकों की सूची जारी की है. जिसमें केंद्रीय मंत्री समेत अन्य 20 वरिष्ठ नेताओं का नाम शामिल है. इस बीच सभापति के अलावा तीन प्रमुख केंद्रीय मंत्री पार्टी की ओर से चुनाव प्रचार-प्रसार में शामिल होंगे. 

ओडिशा में प्रचार, तीन केंद्रीय मंत्री को जिम्मेदारी  ओडिशा में प्रचार, तीन केंद्रीय मंत्री को जिम्मेदारी 
स्टोरी हाइलाइट्स
  • ओडिशा में प्रचार, तीन केंद्रीय मंत्री को जिम्मेदारी 
  • बीजेपी ने झोंकी पूरी ताकत

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने आगामी 30 सितंबर को ओडिशा के पुरी जिले के पिपिली विधानसभा क्षेत्र में होने वाले उपचुनाव को लेकर स्टार प्रचारक की सूची जारी कर दी है. इस सूची में उपचुनाव में प्रचार-प्रसार के लिए तीन केंद्रीय मंत्रियों का नाम दिया गया है. जिसमें केंद्रीय रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव, केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान और केंद्रीय मंत्री विशेश्वर टूडु का नाम शमिल है.

भाजपा ने मंगलवार को पिपिली विधानसभा उपचुनाव के लिए स्टार प्रचारकों की सूची जारी की है. जिसमें केंद्रीय मंत्री समेत अन्य 20 वरिष्ठ नेताओं का नाम शामिल है. इस बीच सभापति के अलावा तीन प्रमुख केंद्रीय मंत्री पार्टी की ओर से चुनाव प्रचार-प्रसार में शामिल होंगे. 

भाजपा ने पिपिली विधानसभा उपचुनाव के लिए पार्टी के नेता आश्रित पटनायक को उम्मीदवार के रूप में घोषित किया है. वहीं कांग्रेस पार्टी ने पिपिली उपचुनाव के लिए विश्वकेशन हरिचंदन को उम्मीदवार चुना है. साथ ही सत्ताधारी पक्ष बीजू जनता दल ने पूर्व पिपिली विधायक व मंत्री के सुपुत्र रुद्र प्रताप महारथी को उपचुनाव के लिए मैदान में उतारा है. 

लोकसभा में बीजेपी का अच्छा प्रदर्शन

भाजपा के कद्दावार नेता व केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान को हाल ही में यूपी चुनाव की कमान सौंपी गई है. हालांकि भाजपा ने पीएम मोदी और धर्मेंद्र प्रधान के नेतृत्व में पिछले पंचायत चुनाव में धमाकेदार परिणाम दिया था. जिसके फलस्वारुप 2019 के आम चुनाव में भाजपा ने विधानसभा में 21 सीट हासिल की थीं वहीं प्रदेश की 21 में से 8 लोकसभा सीटों पर भी कब्जा जमाया था. इस बार भाजपा तीन केंद्रीय मंत्रियों के साथ पिपिली उपचुनाव में अपना दवदबा बनाने की कोशिश करेंगी.  

वैसे बीजेपी ने इतनी तैयारी जरूर कर ली है लेकिन बीजद और कांग्रेस की ओर से अभी तक पिपिली उपचुनाव के लिए स्टार प्रचारकों की सूची को प्रकाशित नहीं किया गया है. 

क्यों करवाने पड़ रहे उपचुनाव?

बता दें कि, पुरी जिले के पिपिली विधानसभा क्षेत्र से 7 बार बीजद के विधायक व मंत्री रहे प्रदीप महाराथी का पिछले साल 4 अक्टूबर को कोरोना की वजह से देहांत हो गया था. जिसके बाद भारतीय चुनाव आयोग ने पिपिली विधानसभा में उपचुनाव कराने का निर्णय लिया था. 

भारतीय चुनाव आयोग ने बीजद विधायक प्रदीप महाराथी की मौत के बाद दोबारा पिपिली विधानसभा क्षेत्र में उपचुनाव कराने के लिए 17 अप्रैल 2021 को तारीख की घोषणा की थी. हालांकि उपचुनाव से ठीक कुछ ही दिन पहले पिपिली विधानसभा के कांग्रेस उम्मीदवार अजीत मंगराज की कोरोना संक्रमण के कारण मौत हो गई. जिसके बाद चुनाव आयोग ने उपचुनाव की प्रक्रिया को स्थगित करने का आदेश दिया था. लेकिन अब तीन अक्टूबर को नतीजे आने वाले हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें