scorecardresearch
 

मुख्तार ने UP जेल भेजने का किया विरोध, SC में कहा- मैं हामिद अंसारी के परिवार का जो देश के उपराष्ट्रपति रहे

पंजाब की रोपड़ जेल में बंद विधायक और माफिया डॉन मुख्तार अंसारी ने खुद को यूपी की जेल में ट्रांसफर किए जाने का विरोध किया है. सुप्रीम कोर्ट में एक हलफनामा दाखिल कर मुख्तार अंसारी ने कहा है कि वो एक ऐसे परिवार का हिस्सा है जिसने स्वतंत्रता आंदोलन में बड़ा योगदान दिया है.

मुख्तार अंसारी (फाइल फोटो) मुख्तार अंसारी (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • मुख्तार अंसारी ने UP जेल भेजे जाने का विरोध किया
  • सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा देकर किया विरोध
  • मैं हामिद अंसारी के परिवार का- मुख्तार

पंजाब की रोपड़ जेल में बंद विधायक और माफिया डॉन मुख्तार अंसारी ने खुद को यूपी की जेल में ट्रांसफर किए जाने का विरोध किया है. सुप्रीम कोर्ट में एक हलफनामा दाखिल कर मुख्तार अंसारी ने कहा है कि वो एक ऐसे परिवार का हिस्सा है जिसने स्वतंत्रता आंदोलन में बड़ा योगदान दिया है. इसके अलावा उसके परिवार से निकले हामिद अंसारी देश के उपराष्ट्रपति रहे हैं.

मुख्तार अंसारी ने सुप्रीम कोर्ट में अपने हलफनामे में कहा है कि उनके परिवार से स्वतंत्रता सेनानी, राज्यपाल और उपराष्ट्रपति देश को मिले हैं. मुख्तार अंसारी ने भूतपूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी का हवाला देते हुए कहा है कि वह उस परिवार से है जहां से निकले हामिद अंसारी देश के उपराष्ट्रपति रहे हैं.

बता दें कि मुख्तार अंसारी पंजाब के रोपड़ जेल में बंद है. उसे यूपी सरकार उत्तर प्रदेश लाना चाहती है, लेकिन पंजाब सरकार ने मुख्तार अंसारी को यूपी भेजने से इनकार किया है. इसके लिए पंजाब ने मुख्तार अंसारी के कथित खराब सेहत का हवाला दिया है. 

इसके बाद ये मामला सुप्रीम कोर्ट चला गया है. इस मसले पर सोमवार को अदालत में सुनवाई हुई.  

 मुख्तार ने अपने हलफनामे में कहा है कि वह खुद भी उत्तर प्रदेश के मऊ से पांच बार विधायक रह चुका है. 

इसके अलावा मुख्तार अंसारी ने कहा है कि वह डॉ मुख्तार अहमद अंसारी का ग्रैंडसन रहा है जो कि एक स्वतंत्रता सेनानी थे और 1927-28 तक कांग्रेस के अध्यक्ष रहे थे. इसके अलावा वह जामिया मिल्लिया इस्लामिया विश्वविद्यालय के संस्थापक भी थे. 

मुख्तार अंसारी ने कहा है कि वह उस परिवार का हिस्सा है जिसने देश की आजादी में बड़ा योगदान दिया है और भारत को हामिद अंसारी के रूप में एक नेता दिया है जो कि देश के उपराष्ट्रपति थे. इसके अलावा उनके परिवार से बाबा शौकतउल्लाह अंसारी आते हैं जो ओडिशा के राज्यपाल रहे हैं. इसके अलावा जस्टिस आसिफ अंसारी भी इसी परिवार से आते हैं तो इलाहाबाद हाईकोर्ट के जज रहे हैं. 

मुख्तार अंसारी ने अपने हलफनामे में कहा है कि उनके पिता सुभानुल्लाह अंसारी भी स्वतंत्रता सेनानी और सामाजिक कार्यकर्ता थे. इसके अलावा मुख्तार अंसारी ने कहा है कि उनके नाना शहीद ब्रिगेडियर उस्मान अंसारी ने 1948 में भारत पाकिस्तान युद्ध में देश के लिए कुर्बानी दी है. बाद में उन्हें महावीर चक्र से सम्मानित किया गया था.  

 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें