scorecardresearch
 

बंगाल: CM ममता बनर्जी को बनाया गया TMC संसदीय बोर्ड का अध्यक्ष

पीसी में उन्होंने बोला कि टीएमसी ने ये रेजोल्यूशन पास किया है कि अब ममता बनर्जी को पार्टी संसदीय बोर्ड का अध्यक्ष बनाया जाएगा. वे सात बार से लगातार एमपी रही हैं, उनके पास एक विजन है.

X
सीएम ममता बनर्जी ( फोटो- Yasir Iqbal)
सीएम ममता बनर्जी ( फोटो- Yasir Iqbal)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • CM ममता बनर्जी को बनाया गया TMC संसदीय बोर्ड का अध्यक्ष
  • डेरेक ओ ब्रायन ने दी फैसले की जानकारी
  • शांतनु सेन का सस्पेंशन वापस लेने की मांग

शुक्रवार को टीएमसी ने बड़ा फैसला लेते हुए सीएम ममता बनर्जी को पार्टी की संसदीय बोर्ड का अध्यक्ष नियुक्त कर दिया है. सांसद डेरेक ओ ब्रायन ने एक प्रेस वार्ता में इस फैसले की जानकारी दी. उन्होंने बताया कि ममता बनर्जी इस पद के लिए उपयुक्त हैं और उनके मार्गदर्शन में पार्टी और मजबूत होगी.

पीसी में उन्होंने बोला कि टीएमसी ने ये रेजोल्यूशन पास किया है कि अब ममता बनर्जी को पार्टी संसदीय बोर्ड का अध्यक्ष बनाया जाएगा. वे सात बार से लगातार एमपी रही हैं, उनके पास एक विजन है. हम पहले भी उनका मार्गदर्शन लेते रहते थे. ऐसे में अब ये आधिकारिक तौर पर कहा जा सकता है कि ममता बनर्जी संसदीय बोर्ड की अध्यक्ष रहेंगी. पार्टी अब पहले से ज्यादा मजबूत महसूस कर रही है.

'सदन में भी चर्चा नहीं होगी तो फिर कहा होगी'

प्रेस वार्ता के दौरान डेरेक ओ ब्रायन ने इस बात पर नाराजगी भी जाहिर की कि सदन में कई अहम मुद्दों पर चर्चा करने की अनुमति नहीं मिल रही है. उनकी नजरों में पेगासस विवाद और किसानों पर चर्चा होनी चाहिए. उन मुद्दों को उठाने का पूरा मौका मिलना चाहिए. डेरेक के इसी बयान पर सुखेंदु शेखर रॉय ने भी कहा कि अगर सदन में भी चर्चा नहीं होगी तो फिर कहा होगी. क्या अब चर्चा करने के लिए भी कॉफी हाउस या सड़कों पर जाना पड़ेगा.

'शांतनु सेन का सस्पेंशन वापस लिया जाए'

पत्रकारों से बातचीत के दौरान सस्पेंड किए गए सांसद शांतनु सेन पर भी सवाल पूछे गए. इस पर सुखेंदु शेखर रॉय ने साफ कर दिया कि सदन द्वारा लिया गया फैसला गैरकानूनी है. वे मानते हैं कि अगर कोई आरोपी था भी तो उसे अपनी बात रखने का पूरा मौका मिलना चाहिए. लेकिन यहां पर ऐसा कुछ नहीं हुआ और सीधे फैसला सुना दिया गया. ऐसे में टीएमसी सांसद अपना विरोध प्रदर्शन जारी रखने जा रहें और उनकी तरफ से मांग की गई है कि शांतनु सेन का सस्पेंशन वापस लिया जाए.

प्रेस वार्ता के दौरान डेरेक की तरफ से केंद्रीय मंत्री हरदीप पुरी पर भी निशाना साधा गया. उन्होंने कहा कि हमारी बातों पर सिर्फ इसलिए विश्वास नहीं किया जा रहा क्योंकि हमारा एक सांसद इस घटना से जुड़ा हुआ है. हम एक और प्रेस वार्ता कर 10 गवाह दिखा सकते हैं. तब खेला होबे हो जाएगा.जानकारी के लिए बता दें कि टीएमसी सांसद ने हरदीप पुरी पर आरोप लगाया था कि उन्हें धमकाया गया था. अब डेरेक ने उसी मुद्दे पर ये तीखी प्रतिक्रिया दी है. 


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें