scorecardresearch
 

कपिल सिब्बल ने कांग्रेस नेतृत्व पर उठाए सवाल! कहा- देश को मजबूत, विश्वसनीय विपक्ष की जरूरत

कपिल सिब्बल ने कांग्रेस नेतृत्व पर सवाल उठाते हुए कहा कि देश में राजनीतिक विकल्प की कमी है, देश को मजबूत, विश्वसनीय विपक्ष की जरूरत है. सिब्बल ने पार्टी में सुधार की जरूरत का भी जिक्र किया. उन्होंने कहा कि पार्टी को यह दिखाने की जरूरत है कि वह सक्रिय है और सार्थक रूप से काम करने की इच्छुक है. 

X
कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल
कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल
स्टोरी हाइलाइट्स
  • कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल के बयान से हलचल
  • कांग्रेस को जल्द से जल्द संगठनात्मक चुनावों की जरूरत: सिब्बल

कांग्रेस के कई बड़े नेता जो राहुल गांधी के करीबी थे, उनमें से कई ने पार्टी छोड़ दी है. इस फेहरिस्त में ज्योतिरादित्य सिंधिया, जितिन प्रसाद सरीखे नेताओं का नाम शामिल है. वहीं राजस्थान में सचिन पायलट और पंजाब में नवजोत सिंह सिद्धू नाराज बताए जा रहे हैं. ऐसे में फिर से पार्टी के भीतर ही कई सवाल उठने लगे हैं. इन सवालों को और बल तब मिला जब कांग्रेस के सीनियर नेता कपिल सिब्बल ने रविवार को पार्टी नेतृत्व पर सवाल उठा दिए. 

पीटीआई को दिए एक विशेष इंटरव्यू में सिब्बल ने स्वीकार किया कि वर्तमान में बीजेपी के लिए कोई मजबूत राजनीतिक विकल्प नहीं है, हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शासन करने का नैतिक अधिकार खो दिया है और कांग्रेस मौजूदा विकल्प हो सकती है. 

कपिल सिब्बल ने कांग्रेस नेतृत्व पर सवाल उठाते हुए कहा कि देश में राजनीतिक विकल्प की कमी है, देश को मजबूत, विश्वसनीय विपक्ष की जरूरत है. सिब्बल ने पार्टी में सुधार की जरूरत का भी जिक्र किया. उन्होंने कहा कि पार्टी को यह दिखाने की जरूरत है कि वह सक्रिय है और सार्थक रूप से काम करने की इच्छुक है. 

कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने कहा, "भारत को पुनरुत्थानवादी कांग्रेस की जरूरत है; लेकिन पार्टी को दिखाना होगा कि वह सक्रिय है और सार्थक रूप से लोगों से जुड़ने के मूड में है." 

सिब्बल ने आगे कहा, "कांग्रेस को जल्द से जल्द संगठनात्मक चुनावों की जरूरत है, केंद्र और राज्य स्तर पर व्यापक सुधारों की जरूरत है ताकि यह दिखाया जा सके कि वह अब जड़ता की स्थिति में नहीं है." उन्होंने कहा कि "राजनीतिक विकल्प का अभाव है, देश को मजबूत, विश्वसनीय विपक्ष की जरूरत है. कांग्रेस में अनुभव और युवाओं के बीच संतुलन बनाने की तत्काल जरूरत है." 

गौरतलब है कि कपिल सिब्बल उन नेताओं में शामिल हैं, जिन्होंने पिछले साल सोनिया गांधी को पत्र लिखकर पार्टी में सुधार की मांग की थी. वह कांग्रेस के 'असंतुष्ट' नेताओं के ग्रुप जी-23 में शामिल हैं.  

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें