scorecardresearch
 

अधीर रंजन चौधरी बोले- कपिल सिब्बल हमारे नेता नहीं, जो हर बयान पर जवाब दिया जाए

अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि, यह कोरोना काल है, हम केवल इसलिए मीटिंग नहीं बुला सकते क्योंकि पार्टी के कुछ नेता पार्टी का अध्यक्ष चाहते हैं. कपिल सिब्बल पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि, हमें कपिल सिब्बल की हर बात पर कमेंट करने की जरूरत नहीं है. वह हमारे नेता नहीं हैं.

कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी.(फाइल फोटो) कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी.(फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • अधीर रंजन बोले- कपिल सिब्बल हमारे नेता नहीं
  • कपिल सिब्बल के बयान पर कांग्रेस में रार जारी

कपिल सिब्बल के बयान को लेकर कांग्रेस में बवाल रुकता नजर नहीं आ रहा है. अशोक गहलोत के बाद अब लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने भी कपिल सिब्बल पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा कि कपिल सिब्बल हमारे नेता नहीं है जो उनके सभी बयानों पर जवाब दिया जाए.

चौधरी ने कहा कि कांग्रेस की कार्य करने की एक शैली है, पार्टी के नए अध्यक्ष को लेकर काम हो रहा है, जब यह पूरा हो जाएगा तब घोषणा कर दी जाएगी. उन्होंने कहा कि यह कोरोना काल है, हम केवल इसलिए मीटिंग नहीं बुला सकते क्योंकि पार्टी के कुछ नेता पार्टी का अध्यक्ष चाहते हैं. कपिल सिब्बल पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि, हमें कपिल सिब्बल की हर बात पर कमेंट करने की जरूरत नहीं है. वह हमारे नेता नहीं हैं.

बता दें कि अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस को दिए गए इंटरव्यू में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने बिहार विधान सभा चुनाव और मध्य प्रदेश उपचुनाव के परिणामों के मद्देनजर पार्टी के भीतर आत्ममंथन की आवश्यकता की बात कही थी. इंटरव्यू में उन्होंने कहा था, "देश के लोग, न केवल बिहार में, बल्कि जहां भी उपचुनाव हुए, जाहिर तौर पर लोग कांग्रेस को एक प्रभावी विकल्प नहीं मानते. यह एक निष्कर्ष है. बिहार में विकल्प आरजेडी ही थी. हम गुजरात में सभी उपचुनाव हार गए. लोकसभा चुनाव में भी हमने वहां एक भी सीट नहीं जीती थी. उत्तर प्रदेश की कई सीटों पर कांग्रेस उम्मीदवारों को 2 फीसदी से कम वोट मिले. मुझे उम्मीद है कि कांग्रेस आत्ममंथन करेगी."

देखें- आजतक LIVE TV

गौरतलब है कि इससे पहले बीते मंगलवार को भी अधीर रंजन चौधरी ने पत्रकारों से बातचीत में कहा था कि,'कपिल सिब्बल ने इस बारे में पहले भी बात की थी. वह कांग्रेस पार्टी और आत्मनिरीक्षण की आवश्यकता के बारे में बहुत चिंतित हैं. लेकिन हमने बिहार, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश या गुजरात के चुनावों में उनका चेहरा तक नहीं देखा.'

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें