scorecardresearch
 

देश में बेकाबू Coronavirus, Oxygen की किल्लत जारी, CT स्कैन पर क्यों उठे सवाल?

देश में बेकाबू Coronavirus, Oxygen की किल्लत जारी, CT स्कैन पर क्यों उठे सवाल?

कोरोना पर हालात नहीं संभल रहे. न दवाई, न बेड, ना ऑक्सीजन. तमाम तरह की जांच का जंजाल अलग से परेशान कर रहा है तो क्या सीटी स्कैन जैसी जटिल जांच जरुरी ? क्या सीटी स्कैन की जांच के साइड इफेक्ट खतरनाक हो सकते है? कोरोना काल में ऑक्सीजन की लंबी लाइन लगी है. लोग सिलेंडर के लिए भटक रहे हैं. सिलेंडर मिला तो ऑक्सीजन की तलाश में खाक छान रहे हैं. ये नजारा दिल्ली से लेकर हर उस शहर का है, जहां कोरोना का कोहराम मचा है. सवाल ये है कि इस हाल में क्या करें-क्या ना करें? देश के सबसे बडे अस्पताल एम्स के डायरेक्टर डॉ रणदीप गुलेरिया ने पूरी जानकारी दी. वहीं देश में 24 घंटे में नए मामले तो थोडड़े घटे हैं लेकिन हाहाकार नहीं थमा है. इलाज के हर उस तरीके पर बहस जारी है जहां जरा भी उम्मीद दिखती है तो रेमडसिविर से लेकर प्लाजमामा थेरेपी और स्टेरॉयड से सांसो को कितना सहारा मिल सकेगा. देखें खास कार्यक्रम, सईद अंसारी के साथ.

Despite seeing a slight drop in the Covid-19 cases, the Covid emergency in India remains worrying which has overwhelmed hospitals and caused a crisis of life-saving resources such as oxygen. AIIMS Director Dr Randeep Guleria said that unnecessary CT scans should be avoided in all mild Covid-19 cases. He further said that one CT scan is equivalent to 300-400 chest X-rays and this increases the risk of having cancer. In this video, we discussed this issue with India's leading doctors. Watch the full episode.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें