scorecardresearch
 

ग्रामीण बेरोजगारों के लिए योगी सरकार का बड़ा फैसला, मिलेंगी नौकरियां

योगी आदित्यनाथ सरकार ने बेरोजगार हुए ग्राम रोजगार सेवकों का पंचायतों में समायोजन करने का निर्णय लिया है. इस बारे में ग्राम्य विकास विभाग ने आदेश भी जारी कर दिया है. सरकार ने बेरोजगार हुए ग्राम रोजगार सेवकों को पुनः उनके पद पर रिक्त पंचायतों में समायोजित करने का फैसला लिया है.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लिया बड़ा फैसला (फाइल-पीटीआई) मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लिया बड़ा फैसला (फाइल-पीटीआई)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • ग्राम रोजगार सेवकों का पंचायतों में समायोजन करने का निर्णय
  • अब बेरोजगारों को रोजगार के लिए समायोजित किया जा सकेगा
  • फैसले से 700 ग्राम पंचायतों के ग्राम रोजगार सेवकों को होगा लाभ

कोरोना संकट और लॉकडाउन की वजह से अर्थव्यवस्था तबाह हो गई और इससे लाखों लोग बेरोजगार हो गए. बेरोजगार लोगों को रोजगार मुहैया कराना केंद्र और राज्य सरकारों के लिए सबसे बड़ी चुनौती है. लेकिन इस बीच उत्तर प्रदेश में योगी सरकार ने ग्रामीण बेरोजगारों के लिए बड़ा फैसला किया है, अगर ये ठीक तरह से लागू हुआ तो इन बेरोजगारों को रोजगार के लिए समायोजित किया जा सकेगा.

योगी आदित्यनाथ सरकार ने बेरोजगार हुए ग्राम रोजगार सेवकों का पंचायतों में समायोजन करने का निर्णय लिया है. इस बारे में ग्राम्य विकास विभाग ने आदेश भी जारी कर दिया है.
 
ये सभी ग्राम रोजगार सेवक शहरीकरण से बेरोजगार हुए थे. दरअसल, उत्त्तर प्रदेश में नगर निगम और नगर निकाय में विलय कर दिए जाने से लगभग 700 ग्राम पंचायतों के ग्राम रोजगार सेवक बेरोजगार हो गए थे जिनके बाद उनके सामने रोजी रोटी का संकट पैदा हो गया था.

अब नई योजना के तहत उत्तर प्रदेश सरकार ने बेरोजगार हुए ग्राम रोजगार सेवकों को पुनः उनके पद पर रिक्त पंचायतों में समायोजित करने का फैसला लिया है.

माना जा रहा है कि यूपी की योगी सरकार के इस फैसले से प्रदेश के लगभग 700 ग्राम पंचायतों के रोजगार सेवकों को लाभ मिलेगा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें