scorecardresearch
 

राजनीतिक घमासान के बीच पवार-उद्धव को आयकर विभाग का नोटिस, चुनावी हलफनामे पर सवाल

नोटिस मिलने को लेकर जब शरद पवार से सवाल किया गया तो मंगलवार को उन्होंने कहा कि नोटिस भेजने वाले कुछ लोगों को ज्यादा चाहते हैं. 

चुनावी हलफनामे को लेकर पहुंचा है नोटिस चुनावी हलफनामे को लेकर पहुंचा है नोटिस
स्टोरी हाइलाइट्स
  • शरद पवार को आयकर विभाग का नोटिस
  • चुनावी हलफनामे पर पूछे गए सवाल
  • उद्धव ठाकरे, आदित्य को भी नोटिस

संसद में सरकार और विपक्ष के बीच की लड़ाई जारी है. इस बीच राष्ट्रवादी कांग्रेस (NCP) प्रमुख और पूर्व केंद्रीय मंत्री शरद पवार को आयकर विभाग का नोटिस पहुंचा है. ये नोटिस पिछले चुनाव में दिए गए हलफनामे को लेकर पहुंचा है.

सिर्फ शरद पवार ही नहीं, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे, मंत्री आदित्य ठाकरे, एनसीपी नेता सुप्रिया सूले को भी आयकर विभाग की ओर से नोटिस भेजा गया है. बताया जा रहा है कि आयकर विभाग की ओर से इस नोटिस के जरिए पिछले कुछ चुनावों में दाखिल किए गए हलफनामे की जानकारी मांगी गई है. 

नोटिस मिलने को लेकर जब शरद पवार से सवाल किया गया तो मंगलवार को उन्होंने कहा कि वो लोग (नोटिस भेजने वाले) कुछ लोगों को ज्यादा चाहते हैं. 

आपको बता दें कि पिछले लंबे वक्त से भारतीय जनता पार्टी और महाराष्ट्र सरकार के बीच तनाव की स्थिति जारी है. इस बीच ये नोटिस का मामला सामने आया है.

इतना ही नहीं शरद पवार और शिवसेना की ओर से लगातार कृषि बिल का विरोध किया जा रहा है. साथ ही राज्यसभा सांसदों के सस्पेंशन के मसले पर मंगलवार को ही पूर्व केंद्रीय मंत्री ने एक दिन का उपवास रखने का ऐलान किया था. इस पूरे सियासी घटनाक्रम के बीच नोटिस की खबर सामने आई है. 

कृषि बिल से पहले सुशांत सिंह राजपूत केस, कंगना रनौत पर बीएमसी के एक्शन और कोरोना संकट के मसले पर भारतीय जनता पार्टी और शिवसेना-एनसीपी की सरकार महाराष्ट्र में आमने-सामने हैं. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें