scorecardresearch
 

अकाली दल को पसंद नहीं आया सरकार का MSP गिफ्ट, सुखबीर बोले- कवर नहीं होगी किसान की लागत

सुखबीर सिंह बादल शिरोमणी अकाली दल के नेता हैं और कृषि बिल को लेकर केंद्र की मोदी सरकार के खिलाफ हैं. बिल के विरोध में ही अकाली कोटे से मोदी सरकार में मंत्री रहीं हरसिमरत कौर ने पद से इस्तीफा दे दिया.

सुखबीर सिंह बादल (PTI फोटो) सुखबीर सिंह बादल (PTI फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • केंद्र ने सोमवार को 6 फसलों की MSP बढ़ाई
  • गेहूं के लिए 50 रुपये प्रति क्विंटल बढ़ाई MSP
  • इस बढ़ोतरी से लागत भी नहीं निकलेगी: सुखबीर

मोदी सरकार की ओर से लाए गए कृषि बिल को लेकर किसान और कई राजनीति दल लगातार मुखर होते जा रहे हैं, ऐसे में केंद्र सरकार ने रबी सीजन की 6 प्रमुख फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) का ऐलान कर किसानों को खुश करने की कोशिश की, लेकिन लगता है कि यह कोशिश भी काम नहीं आ रही. एनडीए के ही सहयोगी अकाली दल के नेता सुखबीर सिंह बादल ने गेहूं के एमएसपी में 50 रुपये की बढ़ोतरी को निराशाजनक करार दिया है. 

पंजाब के पूर्व उपमुख्यमंत्री और लोकसभा सांसद सुखबीर सिंह बादल ने ट्वीट कर केंद्र सरकार के एमएसपी पर निराशा जताई. उन्होंने ट्वीट कर कहा, 'केंद्र सरकार द्वारा गेहूं के एमएसपी में 50 रुपये प्रति क्विटंल की मामूली वृद्धि किसानों के लिए एक बड़ी निराशा है जो पहले से ही अपनी उपज का सही मूल्य नहीं मिलने को लेकर संघर्ष कर रहे हैं. यह बढ़ोतरी डीजल के साथ उनकी बढ़ती लागत को कवर नहीं कर पाएगी.

सुखबीर सिंह बादल शिरोमणी अकाली दल के नेता हैं और कृषि बिल को लेकर केंद्र की मोदी सरकार के खिलाफ हैं. उनकी पार्टी की ओर से केंद्र में मंत्री रहीं हरसिमरत कौर बादल ने इस बिल के विरोध में मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था. 

इससे पहले केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने सोमवार को लोकसभा में रबी फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) में बढ़ोतरी का ऐलान करते हुए सदन को आश्वस्त किया कि भारतीय खाद्य निगम (एफसीआई) और राज्यों की सरकारी एजेंसियां एमएसपी पर पहले की तरह किसानों से फसलों की खरीद करती रहेगी.

रबी की 6 प्रमुख फसलों की MSP जारी

कृषि मंत्री तोमर ने कहा कि रबी सीजन की 6 प्रमुख फसलों में सबसे ज्यादा मसूर के एमएसपी में 300 रुपये प्रति क्विंटल का इजाफा किया गया है, जबकि गेहूं के एमएसपी में 50 रुपये प्रति क्विंटल की वृद्धि की गई है.

रबी सीजन के लिए फसल वर्ष 2020-21 के गेहूं का एमएसपी पिछले साल से 50 रुपये बढ़ाकर 1,975 रुपये प्रति क्विंटल कर दिया गया है. जौ का एमएपी पिछले साल की तुलना में 75 रुपये बढ़ाकर 1,600 रुपये प्रति क्विंटल कर दिया गया है.

सरकार की ओर से इसी तरह चना का एमएसपी पिछले साल की तुलना में 225 रुपये बढ़ाकर 5,100 रुपये प्रति क्विंटल कर दिया गया है. सरसों का एमएसपी 225 रुपये बढ़ाकर 4,650 रुपये प्रति क्विंटल कर दिया गया है. कुसुम का एमएसपी 112 रुपये प्रति क्विंटल बढ़ाकर 5,327 रुपये प्रतिक्विंटल कर दिया गया है.

मसूर में सबसे ज्यादा बढ़ोतरी की गई है और इसके एमएसपी में 300 रुपये प्रति क्विंटल की वृद्धि हुई है. मसूर का एमएसपी 5,100 रुपये प्रति क्विंटल कर दिया गया है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें