scorecardresearch
 

यूक्रेन के राष्ट्रपति जेलेंस्की ने PM मोदी को कहा धन्यवाद, बोले- मौजूदा स्थिति में रूस से नहीं करेंगे बात

यूक्रेन के राष्ट्रपति दफ्तर की ओर से जारी बयान के मुताबिक, जेलेंस्की और पीएम मोदी के बीच फोन पर बातचीत हुई. इस दौरान जेलेंस्की ने यूक्रेन के खिलाफ रूसी हमले के खिलाफ यूक्रेन और भारत की साझेदारी को मजबूत करने के महत्व पर जोर दिया. इस दौरान दोनों नेताओं के बीच यूक्रेन में रूस के कब्जे वाली जगहों पर जनमत संग्रह को लेकर भी चर्चा हुई.

X
पीएम मोदी और जेलेंस्की ने फोन पर की बात
पीएम मोदी और जेलेंस्की ने फोन पर की बात

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोडिमीर जेलेंस्की के साथ फोन पर बातचीत की. इस दौरान दोनों नेताओं के बीच यूक्रेन में जारी युद्ध को लेकर चर्चा हुई. पीएम मोदी ने इस लड़ाई को खत्म करके बातचीत और कूटनीति के रास्ते पर बढ़ने की जरूरत को दोहराया. वहीं, राष्ट्रपति जेलेंस्की ने यूक्रेन का समर्थन करने के लिए पीएम मोदी को धन्यवाद कहा. उन्होंने पीएम मोदी को यह भी बताया कि मौजूदा स्थिति में वे रूसी सरकार से बातचीत नहीं करेंगे. जेलेंस्की ने रूस द्वारा परमाणु हमले की धमकी को लेकर कहा कि यह यूक्रेन ही नहीं पूरी दुनिया के लिए खतरा है.

क्या कहा जेलेंस्की ने?

यूक्रेन के राष्ट्रपति दफ्तर की ओर से जारी बयान के मुताबिक, जेलेंस्की और पीएम मोदी के बीच फोन पर बातचीत हुई. इस दौरान जेलेंस्की ने यूक्रेन के खिलाफ रूसी हमले के खिलाफ यूक्रेन और भारत की साझेदारी को मजबूत करने के महत्व पर जोर दिया. इस दौरान दोनों नेताओं के बीच यूक्रेन में रूस के कब्जे वाली जगहों पर जनमत संग्रह को लेकर भी चर्चा हुई. 

राष्ट्रपति जेलेंस्की ने इस दौरान कहा कि यूक्रेनी क्षेत्रों पर अवैध कब्जे के प्रयास के उद्देश्य से सभी फैसले शून्य हैं और वास्तविकता को नहीं बदलते. इस दौरान जेलेंस्की ने कहा कि मौजूदा स्थिति में यूक्रेन रूस की मौजूदा सरकार के साथ कोई भी बात नहीं करेगा. हालांकि, उन्होंने कहा कि यूक्रेन हमेशा से इस मुद्दे को बातचीत के बल पर हल करने के पक्ष में रहा है. उन्होंने कहा कि रूस बातचीत के लिए तैयार नहीं हुआ और जानबूझकर इस प्रक्रिया को कमजोर करने के लिए काम करता रहा. 

जेलेंस्की ने पीएम मोदी को कहा धन्यवाद

यूक्रेन के राष्ट्रपति ने कहा कि यूएन महासभा में अपने भाषण के दौरान मैंने शांति के लिए हमारे स्पष्ट सूत्र को रखा था. हम इसे हासिल करने के लिए अपने भागीदारों के साथ मिलकर काम करने के लिए तैयार हैं. जेलेंस्की ने यूक्रेन की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता के लिए भारत के समर्थन के लिए नरेंद्र मोदी को धन्यवाद दिया. उन्होंने पीएम मोदी  उस बयान के महत्व पर भी जोर दिया, जिसमें भारत के प्रधानमंत्री ने कहा था कि अब युद्ध का समय नहीं है. जेलेंस्की ने यूक्रेन को भारत सरकार और निजी क्षेत्र द्वारा प्रदान की जाने वाली महत्वपूर्ण मानवीय सहायता का भी जिक्र किया. जेलेंस्की ने कहा कि रूस द्वारा परमाणु को लेकर ब्लैकमेल करने खासकर Zaporizhzhia NPP में, यह न सिर्फ यूक्रेन के लिए, बल्कि पूरी दुनिया के लिए भी खतरा है. 

पीएम मोदी ने कहा- संघर्ष का सैन्य समाधान नहीं हो सकता

बातचीत के दौरान पीएम मोदी ने लड़ाई को जल्द खत्म करने और बातचीत और कूटनीति के मार्ग पर आगे बढ़ने की अपील की. उन्होंने कहा कि इस संघर्ष का कोई सैन्य समाधान नहीं हो सकता है. पीएम ने इस दौरान दोहराया कि किसी भी प्रकार के शांति प्रयासों में योगदान देने के लिए भारत तैयार है. पीएम मोदी ने संयुक्त राष्ट्र चार्टर, अंतरराष्ट्रीय कानून और सभी देशों की संप्रभुता व क्षेत्रीय अखंडता का सम्मान करने के महत्व को भी दोहराया. 

प्रधानमंत्री ने इस बात पर जोर दिया कि भारत यूक्रेन समेत सभी परमाणु प्रतिष्ठानों की सुरक्षा को महत्व देता है. उन्होंने रेखांकित किया कि परमाणु संयंत्रों पर किसी भी तरह के खतरों के सार्वजनिक स्वास्थ्य और पर्यावरण के लिए दूरगामी और विनाशकारी परिणाम हो सकते हैं. 

 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें