scorecardresearch
 

'टीका उत्सव' पर प्रधानमंत्री मोदी की देशवासियों से अपील, बताए ये चार मंत्र!

PM नरेंद्र मोदी ने अपने पत्र में लिखा है ''मेरे प्यारे देशवासियों आज 11 अप्रैल यानी ज्योतिबा फुले जयंती से हम देशवासी ‘टीका उत्सव’ की शुरुआत कर रहे हैं. ये ‘टीका उत्सव’ 14 अप्रैल यानि बाबा साहेब आंबेडकर जयंती तक चलेगा. ये उत्सव, एक प्रकार से कोरोना के खिलाफ दूसरी बड़ी जंग की शुरुआत है.''

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (फाइल फोटो) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • टीका लगवाने वालों से अपील- औरों को भी लगवाएं
  • कोरोना का इलाज करवाने में मदद करें
  • ‘माइक्रो कन्टेनमेंट जोन' पर जोर

देश भर में कोरोना के बढ़ते मामलों से लड़ने के लिए वैक्सीन एक बड़ा हथियार है. वैक्सीन के प्रति जागरूकता बढ़ाने के लिए देशभर में 'टीका उत्सव' मनाया जा रहा है. इसे लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी देशवासियों के लिए एक पत्र लिखा है. PM नरेंद्र मोदी ने अपने पत्र में लिखा है ''मेरे प्यारे देशवासियों आज 11 अप्रैल यानी ज्योतिबा फुले जयंती से हम देशवासी ‘टीका उत्सव’ की शुरुआत कर रहे हैं. ये ‘टीका उत्सव’ 14 अप्रैल यानि बाबा साहेब आंबेडकर जयंती तक चलेगा. ये उत्सव, एक प्रकार से कोरोना के खिलाफ दूसरी बड़ी जंग की शुरुआत है. इसमें हमें Personal Hygiene के साथ ही Social Hygiene पर विशेष बल देना है.''

प्रधानमंत्री मोदी ने कोरोना से लड़ने के लिए चार जरूरी बातें भी अपने पत्र में रेखांकित की हैं. ये चार बातें हैं:-

Each One- Vaccinate One: यानी जो लोग कम पढ़े-लिखे हैं, बुजुर्ग हैं, जो स्वयं जाकर टीका नहीं लगवा सकते, उनकी मदद करें.

Each One- Treat One: यानी जिन लोगों के पास उतने साधन नहीं हैं, जिन्हें जानकारी भी कम है, उनकी कोरोना के इलाज में सहायता करें.

Each One- Save One: यानी मैं स्वयं भी मास्क पहनूं और इस तरह स्वयं को भी Save करूं और दूसरों को भी Save करूं, इस पर बल देना है.

माइक्रो कन्टेनमेंट जोन: चौथी अहम बात, किसी को कोरोना होने की स्थिति में, ‘माइक्रो कन्टेनमेंट जोन’ बनाने का नेतृत्व समाज के लोग करें. जहां पर एक भी कोरोना का पॉजिटिव केस आया है, वहां परिवार के लोग, समाज के लोग ‘माइक्रो कन्टेनमेंट जोन’ बनाएं.

प्रधानमंत्री ने देशवासियों को लिखे अपने पत्र में सबसे टेस्टिंग कराने की अपील भी की है. प्रधानमंत्री ने आगे लिखा है ''भारत जैसे सघन जनसंख्या वाले देश में कोरोना के खिलाफ लड़ाई का एक महत्वपूर्ण तरीका ‘माइक्रो कन्टेनमेंट जोन’ भी है. एक भी पॉजिटिव केस आने पर हम सभी का जागरूक रहना, बाकी लोगों की भी टेस्टिंग कराना बहुत आवश्यक है. इसके साथ ही जो टीका लगवाने का अधिकारी है, उसे टीका लगे, इसका पूरा प्रयास समाज को भी करना है और प्रशासन को भी. एक भी वैक्सीन का नुकसान ना हो, हमें ये सुनिश्चित करना है. हमें जीरो वैक्सीन वेस्ट की तरफ बढ़ना है. इस दौरान हमें देश की वैक्सीनेशन क्षमता के ऑप्टिमम यूटिलाइजेशन की तरफ बढ़ना है. ये भी हमारी कपैसिटी बढ़ाने का ही एक तरीका है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें