scorecardresearch
 

नसीरुद्दीन शाह ने सीएम योगी के 'अब्बा जान' वाले बयान को बताया नफरत भरा, बोले- प्रतिक्रिया देने लायक भी नहीं

अभिनेता नसीरुद्दीन शाह ने कहा, ''यूपी सीएम का अब्बा जान वाला बयान अवमानना की तरह है और यह प्रतिक्रिया देने के लायक भी नहीं है." उन्होंने कहा, ''उस पर प्रतिक्रिया देने का कोई मतलब नहीं है. लेकिन सच्चाई यह है कि अब्बा जान का यह बयान उन नफरत भरे बयानों का सिलसिला है जो वह हमेशा से देते रहे हैं.''

Naseeruddin Shah Naseeruddin Shah
स्टोरी हाइलाइट्स
  • सीएम योगी ने हाल में दिया था 'अब्बा जान' वाला बयान
  • अभिनेता नसीरुद्दीन शाह ने साधा निशाना
  • नसीरुद्दीन बोले- नफरत भरा बयान

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) के पिछले दिनों दिए गए 'अब्बा जान' (Abba Jaan Statement)  वाले बयान पर बॉलीवुड अभिनेता नसीरुद्दीन शाह (Naseeruddin Shah) ने प्रतिक्रिया दी है. उन्होंने इस बयान को अपमानजनक बताया है. सोशल मीडिया पर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का एक बयान वायरल हुआ था, जिसमें उन्होंने अब्बा जान शब्द का जिक्र किया था. इसके बाद से ही सोशल मीडिया पर यह शब्द ट्रेंड करने लगा और आम लोगों के साथ ही विभिन्न दलों के नेताओं ने कड़ी प्रतिक्रियाएं दी थीं.

इंडिया टुडे टीवी के कंसल्टिंग एडिटर राजदीप सरदेसाई से बात करते हुए अभिनेता नसीरुद्दीन शाह ने कहा, ''यूपी सीएम का अब्बा जान वाला बयान अवमानना की तरह है और यह प्रतिक्रिया देने के लायक भी नहीं है." उन्होंने कहा, ''उस पर प्रतिक्रिया देने का कोई मतलब नहीं है. लेकिन सच्चाई यह है कि अब्बा जान का यह बयान उन नफरत भरे बयानों का सिलसिला है जो वह हमेशा से देते रहे हैं.''

सीएम योगी ने जनसभा में क्या कहा था?
उन्होंने एक जनसभा को संबोधित करते हुए पूछा था, ''आप लोगों को अब राशन मिल रहा है न. क्या यह साल 2017 से पहले मिलता था? तब तो अब्बा जान कहने वाले राशन हजम कर जाते थे. पीएम नरेंद्र मोदी जी ने सही मायने में राजनीतिक एजेंडे को बदला है. जो राजनीति 1947 में जाति, क्षेत्र, महजब, परिवार और वंश तक सीमित थी, प्रधानमंत्री मोदी जी ने उसे बच्चों, गरीबों, महिलाओं, गांव, नौजवान आदि के लिए पहुंचाया है और आज उसी का परिणाम है कि हर तबके के लोगों को एक तरह से विकास मिल रहा है. विकास सबका हो रहा है, लेकिन तुष्टिकरण किसी का नहीं हो रहा है.'' 

वहीं, अभिनेता नसीरुद्दीन शाह हाल ही में अफगानिस्तान में तालिबान शासन की वापसी का जश्न मना रहे कुछ भारतीय मुसलमानों की निंदा करने वाली अपनी टिप्पणी के लिए भी चर्चा में आए थे. यह बयान भी उनका सोशल मीडिया पर वायरल हो गया था, जिसके बाद कई लोगों की प्रतिक्रियाएं सामने आई थीं.

'उदार हिंदू दक्षिणपंथी कट्टरता के खिलाफ बोलें'
अपने उस बयान के लिए हिंदू दक्षिणपंथी से मिले समर्थन के बारे में पूछे जाने पर नसीरुद्दीन शाह ने कहा, "अधिक हिंदुओं को भारत में बढ़ती दक्षिणपंथी कट्टरता के खिलाफ बोलना चाहिए. यह समय है कि अधिक उदार हिंदू इसके खिलाफ बोलें क्योंकि यह अब बहुत आगे तक जा रहा है.'' शाह ने केरल में एक कैथोलिक बिशप की यह दावा करने के लिए भी आलोचना की थी कि कट्टरपंथी 'लव जिहाद' और 'नारकोटिक जिहाद' जैसी रणनीति का इस्तेमाल करके 'गैर-मुसलमानों को खत्म करने' की कोशिश कर रहे हैं.

'समाज को अलग-थलग करने को दिए गए बयान'
अभिनेता नसीरुद्दीन शाह ने कहा, ''मुझे नहीं पता कि उन्होंने किसके प्रभाव में ऐसा कहा, लेकिन इस तरह के बयान समाज को अलग-थलग करने के लिए दिए गए हैं.'' गौरतलब है कि नसीरुद्दीन शाह बॉलीवुड के जाने माने चेहरा हैं और कई फिल्मों में काम कर चुके हैं. वे बेहतरीन अभिनय की वजह से तीन बार नेशनल अवॉर्ड भी अपने नाम कर चुके हैं.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें