scorecardresearch
 

आज 'मां भारती के सपूत' वेवसाइट लॉन्च करेंगे राजनाथ सिंह, शहीदों के परिवारों की सीधे कर सकेंगे मदद

राजनाथ सिंह नई दिल्ली में स्थित नेशनल वॉर मेमोरियल में आयोजित कार्यक्रम में वेबसाइट लॉन्च करेंगे. Maa Bharati Ke Sapoot वेबसाइट के जरिए कोई भी इस पर विजिट करके शहीद या जख्मी जवानों की मदद के लिए आगे आ सकता है. वह अपनी क्षमता के अनुसार इसमें सहयोग दे सकता है.

X
राजनाथ सिंह
राजनाथ सिंह

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह आज 'मां भारती के सपूत' नाम की वेबसाइट लॉन्च करेंगे. सशस्त्र बलों के कैजुअल्टी वेलफेयर फंड (AFBCWF) के लिए यह वेबसाइट शुरू की जा रही है. खास बात ये है कि इस वेबसाइट के जरिए कोई भी शहीदों के परिवारों की सीधे मदद कर सकता है. AFBCWF का इस्तेमाल युद्ध या ऑपरेशन के वक्त शहीद हुए जवानों के परिजनों को तत्काल वित्तीय सहायता प्रदान करने के लिए किया जाता है. 

अमिताभ बच्चन गुडविल एंबेसडर बने

राजनाथ सिंह नई दिल्ली में स्थित नेशनल वॉर मेमोरियल में आयोजित कार्यक्रम में वेबसाइट लॉन्च करेंगे. इस दौरान चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ, तीनों सेना प्रमुख और सेना के अन्य बड़े अफसर समेत कई मशहूर हस्तियां मौजूद रहेंगी. अभिनेता अमिताभ बच्चन इसके गुडविल एंबेसडर होंगे. इतना ही नहीं इस दौरान युद्ध या ऑपरेशन के वक्त शहीद हुए कुछ शहीदों के परिजनों या दिव्यांग हुए जवानों को भी सम्मानित किया जाएगा. 

रक्षा मंत्रालय के मुताबिक, ड्यूटी के दौरान सैन्य ऑपरेशन्स के दौरान शहीद या दिव्यांग हुए जवानों के लिए भारत सरकार ने कई योजनाएं शुरू की हैं. इसके साथ ही जवानों के परिवारों के कल्याण जैसे नेक काम में देशभक्त भारतीयों को भागीदार बनाने के लिए यह वेबसाइट शुरू की जा रही है. 
 
कोई भी कर सकेगा मदद

Maa Bharati Ke Sapoot वेबसाइट के जरिए कोई भी इस पर विजिट करके शहीद या जख्मी जवानों की मदद के लिए आगे आ सकता है. वह अपनी क्षमता के अनुसार इसमें सहयोग दे सकता है. यह मदद भारत सरकार द्वारा शहीद या जख्मी सैनिक को मिलने वाली मदद के अतिरिक्त होगी. 



कर्नल राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने पिछले दिनों एक वीडियो जारी किया था. इसमें उन्होंने इस वेबसाइट के बारे में जानकारी दी थी. उन्होंने बताया था, भारतीय सेना के सैनिक सरहद पर देश की सुरक्षा में या प्राकृतिक आपदा के वक्त भारतीय नागरिकों की रक्षा करते हैं. इस दौरान ऑपरेशन में कभी कभी वे घायल हो जाते हैं, कभी वे शहीद हो जाते हैं. इनका ऋण तो हम कभी नहीं चुका सकते, लेकिन इनके परिवारों की मदद तो कर सकते हैं. 

उन्होंने बताया था कि इसी उद्देश्य से भारतीय सशस्त्रबलों ने एक वेबसाइट 'मां भारती के सपूत' लॉन्च की है. उन्होंने अपील की थी, कि हम इस वेबसाइट को विजिट करें और अपनी क्षमता के अनुसार इन परिवारों की मदद करें. 
 


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें