scorecardresearch
 

इंडियन नेवी की जांबाजी से बची जान, हेलिकॉप्टर से मलेशियाई नागरिक को अस्पताल पहुंचाने में की मदद

बीच समुंदर शिप में सवार मरीज की हालत लगातार बिगड़ती जा रही थी. उसे फौरन अस्पताल में शिफ्ट करने की नौबत आ गई. ऐसे में शिप की एजेंट जेएम बैक्सी ने उसे शिफ्ट कराने की कोशिश की, लेकिन वो असफल रहीं. जिसके के बाद इंडियन नेवी को इसकी सूचना दी गई.  

इंडियन नेवी ने बचाई मलेशियाई नागरिक की जान इंडियन नेवी ने बचाई मलेशियाई नागरिक की जान
स्टोरी हाइलाइट्स
  • इंडियन नेवी की जांबाजी से बची शख्स की जान
  • हेलिकॉप्टर से मलेशियाई नागरिक को अस्पताल पहुंचाने में की मदद
  • सिंगापुर के एक फ्लैगशिप मर्चेंट शिप से मिला इनपुट

इंडियन नेवी (Indian Navy) वैसे तो समुंदर में अपनी जांबाजी के लिए जानी जाती है. लेकिन मेडिकल इमरजेंसी जैसे हालातों में लोगों की मदद करने में भी वह पीछे नहीं रहती. गुरुवार (21 जनवरी) को एक ऐसा ही एक मामला सामने आया, जहां इंडियन नेवी को मेडिकल इमरजेंसी के संबंध में सिंगापुर के एक फ्लैगशिप मर्चेंट शिप से एक इनपुट मिला. जिसके बाद नेवी ने बिना समय गंवाएं बीमार शख्स को हेलिकॉप्टर से अस्पताल पहुंचाने में मदद की. 

दरअसल, आज करीब 06 बजे, इंडियन नेवी के हेडक्वार्टर वेस्टर्न नेवल कमांड के ज्वाइंट ऑपरेशंस सेंटर में एक मेडिकल इवैक्यूएशन (MEDEACAC) किया गया. यह काम मेडिकल इमरजेंसी के संबंध में एक इनपुट के आधार पर किया गया, जो कि सिंगापुर के एक फ्लैगशिप मर्चेंट शिप एमवी ईगल टम्पा से प्राप्त हुआ था. 

बता दें कि ये शिप मुंबई के तट से 18 नॉटिकल माइल मील दूर था. इसमें मलेशियाई मूल की 34 वर्षीय गीथा सेल्वाराजा नाम की एक मरीज थी. गीथा गैस्ट्रोओसोफेगल रिफ्लक्स नामक बीमारी से पीड़ित थी. शिप में उसे सांस लेने में कठिनाई हो रही थी. 

हेलिकॉप्टर से मलेशियाई नागरिक को अस्पताल पहुंचाने में की मदद

बीच समुंदर शिप में सवार मरीज की हालत लगातार बिगड़ती जा रही थी. उसे फौरन अस्पताल में शिफ्ट करने की नौबत आ गई. ऐसे में शिप की एजेंट जेएम बैक्सी ने उसे शिफ्ट कराने की कोशिश की, लेकिन वो असफल रहीं. जिसके के बाद इंडियन नेवी को इसकी सूचना दी गई.

इंडियन नेवी के अफसरों को जब इसकी जानकारी हुई तो उन्होंने INS Shikra से हेलिकॉप्टर मंगवाया. इस हेलिकॉप्टर के जरिए मलेशियाई मरीज को शिप से निकाला गया. जिसके बाद मरीज को सुरक्षित प्राइवेट एंबुलेंस से अस्पताल पहुंचाया गया. इस तरह उसकी जान बच सकी.  

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें