scorecardresearch
 

लद्दाख में भारत-चीन के बीच खत्म होगा तनाव? ड्रैगन से 12वें दौर की बातचीत आज, हॉट स्प्रिंग्स और गोगरा पर होगी वार्ता

India-China Standoff: भारत और चीन के बीच पिछले साल अप्रैल महीने से पूर्वी लद्दाख की वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) के कुछ प्वाइंट्स पर तनावपूर्ण हालात कायम हैं. इस बीच, शनिवार को दोनों देशों के बीच 12वें दौर की कोर कमांडर स्तर की बातचीत होगी.

भारत-चीन स्टैंडऑफ भारत-चीन स्टैंडऑफ
स्टोरी हाइलाइट्स
  • भारत-चीन के बीच 12वें दौर की वार्ता होगी
  • चीनी पक्ष मोल्डो में होगी बातचीत

भारत और चीन (India-China) के बीच पिछले साल अप्रैल महीने से पूर्वी लद्दाख (Eastern Ladakh) की वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर तनावपूर्ण हालात कायम हैं. दोनों देश तनाव को कम करने के लिए लगातार बातचीत कर रहे हैं. हालांकि, पैंगोंग झील के किनारों समेत कई जगहों से डिस-एंगेजमेंट हुआ है, लेकिन अब भी कुछ ऐसे प्वाइंट्स बाकी रह गए हैं, जहां पर दोनों की सेनाएं आमने-सामने की स्थिति में हैं. इसको देखते हुए शनिवार को भारत-चीन के बीच 12वें दौर की कोर कमांडर स्तर की बातचीत होगी.

भारतीय सेना के सूत्र के अनुसार, कोर कमांडर स्तर की यह बातचीत शनिवार सुबह करीब साढ़े दस बजे वास्तविक नियंत्रण रेखा के चीनी हिस्से मोल्डो में होगी. इस बातचीत में उम्मीद जताई जा रही है कि दोनों देश के सैन्य अधिकारी  हॉट स्प्रिंग्स और गोगरा हाइट्स क्षेत्रों से डिस-एंगेजमेंट को लेकर चर्चा कर सकते हैं.

पिछले दिनों एलएसी विवाद को खत्म करने के लिए चीन ने 26 जुलाई को बातचीत करने का सुझाव दिया था, जिसे भारत ने कारगिल विजय दिवस के चलते खारिज कर दिया था. भारत ने चीन से नई तारीख तय करने के लिए कहा था. अब 12वें दौर की यह बातचीत शनिवार सुबह होने जा रही है. दोनों देशों के बीच अब तक कुल 11 दौर की बातचीत हो चुकी है. इन बातचीत की वजह से ही कई जगह पर दोनों सेनाएं पीछे हटी हैं, लेकिन अब भी डेपसांग प्लेंस, गोगरा और हॉट स्प्रिंग्स में तनाव बरकरार है.

यह भी पढ़ें- 2022 तक भारत बना लेगा थिएटर कमांड, भारतीय सेनाओं की बढ़ जाएगी ताकत: जनरल बिपिन रावत

वहीं, भारतीय पक्ष स्पष्ट कर चुका है कि वह कंप्लीट डिसइंगेजमेंट के लिए तभी सहमत होगा जब एक साथ और एक समान वापसी पर सहमति बनेगी. इस मुद्दे पर बीते महीने विदेश मंत्रालय ने भी कहा था कि दोनों पक्ष एलएसी के साथ सभी विवादित क्षेत्रों से पूरी तरह से पीछे हटने के लिए अगले दौर की बातचीत आयोजित करने के लिए सहमत हो गए हैं.

पिछले साल अप्रैल महीने में पूर्वी लद्दाख की एलएसी पर दोनों देशों की सेनाएं आमने-सामने आ गई थीं. इसके बाद कई बार चीन की चालबाजियों की वजह से हालात अत्यधिक तनावपूर्ण हो गए. पिछले साल मध्य जून में गलवान घाटी में दोनों देशों के बीच हिंसक झड़प हो गई थी. इसमें भारत के 20 जवान शहीद हो गए थे और चीन के भी कई सैनिक मारे गए थे. हालांकि, चीन ने टकराव में मारे गए सैनिकों की वास्तविक संख्या की जानकारी नहीं दी थी.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें