scorecardresearch
 

2022 तक भारत बना लेगा थिएटर कमांड, भारतीय सेनाओं की बढ़ जाएगी ताकत: जनरल बिपिन रावत

चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (CDS) जनरल बिपिन रावत ने चीन और अमेरिका से खतरों के बारे में कहा है कि वे पहले ही सैन्य थिएटर कमांड बना चुके हैं. ऐसे में भारत भी 2022 तक थिएटर्स कमांड बनाएगा.

चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (CDS) जनरल बिपिन रावत (फाइल फोटो-ANI) चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (CDS) जनरल बिपिन रावत (फाइल फोटो-ANI)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • लंबे अरसे से हो रही है थिएटर्स कमांड की मांग
  • तीनों सेनाओं की एकजुटता से बढ़ी देश की ताकत
  • जल, थल और वायुसेना की मिलेगी मजबूती

चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (CDS) जनरल बिपिन रावत ने कहा है कि भारत 2022 तक थिएटर कमांड बनाएगा. उन्होंने कहा कि चीन और अमेरिका जैसे देशों ने पहले ही अपनी सीमाओं और खतरों को देखते हुए पहले ही थिएटर्स कमांड बना लिए हैं. लंबे अरसे से थिएटर्स कमांड की चर्चा हो रही थी, लेकिन अब 2022 तक देश में भी इन्हें बना लिया जाएगा.

सीडीएस जनरल बिपिन रावत ने आजतक से हुई खास बातचीत में कहा कि तीनों सेनाओं को एकजुट कर और मजबूत किया जाएगा. तीनों सेनाएं एकसाथ आगे बढ़ने के लिए तैयार हैं. उन्होंने कहा कि जब परिवर्तन होते हैं तो कुछ बाधाएं भी आती हैं, जो कभी-कभी जरूरी होती हैं. यह हमें और अधिक चर्चा करने और बेहतर ढांचा खड़ा करने में बल देता है.

चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ ने कहा कि भौगोलिक परिस्थितियों के हिसाब से अलग तरह की चुनौतियों को ध्यान में रखते हुए अलग-अलग थियेटर कमांड बनाए जाएंगे. जरूरत के मुताबिक भारत में 4 कमांड तक हो सकते हैं. इसी के तहत समुद्री खतरे को देखते हुए मेरीटाइम कमांड, चीन को ध्यान में रखते हुए एक कमांड और जम्मू-कश्मीर के लिए थिएटर कमांड का ब्लू प्रिंट तैयार किया गया है.

जानें क्या है थिएटर कमांड? जिसके बनते ही भारतीय सेनाएं बन जाएंगी 'बाहुबली'

थिएटर्स कमांड कैसे करेंगे लड़ने में मदद?


सीडीएल जनलर बिपिन रावत ने कहा कि हम एक-एक करके तीनों सेनाओं को को मजबूत बना सकते हैं. चीन, ब्रिटेन और अमेरिकी सेनाएं पहले से ही एकीकृत हैं. हम अपने संसाधनों का बेहतर तरीके से उपयोग कर सकते हैं और अपनी परिचालन क्षमता को बढ़ा सकते हैं.

भारतीय  सेना के पास बेहतरीन और लंबी दूरी तक मार करने की क्षमता वाले तोप हैं. भारतीय विमान बहुत ऊंची उड़ान भरते हैं. भारत के लिए एयर स्पीड का मैनेजमेंट बहुत मायने रखता है. भारत के पास ड्रोन, आर्टिलरी गन और एयर डिफेंस कमांड की बेहतरीन क्षमता है.

उन्होंने कहा कि हमारी समुद्री सीमाएं बहुत बड़ी हैं. जम्मू-कश्मीर और एलएसी की सीमाएं अनसुलझी हैं.इसलिए हमने लैंड बेस्ड कमांड तैयार किया है. पूर्वी और पश्चिमी  थिएटर्स पर ध्यान दिया जाएगा.

पाकिस्तान पर क्या बोले बिपिन रावत?

उन्होंने कहा कि बीते एक साल में कश्मीर में घुसपैठ में तो कमी आई है. सीमापार से हथियार और ड्रग्स ड्रोन से भेजे जा रहे हैं, जिससे भारत में शांति व्यवस्था को भंग किया जाए. भारतीय सेना ने पिछले एक साल में सरहद पर पाकिस्तान सेना को काफी नुकसान पहुंचाया है. पाकिस्तान के साथ बातचीत का फैसला राजनीतिक नेतृत्व को करना है. 

चीन पर क्या है भारत का रुख?

लद्दाख में चीन को अप्रैल 2020 की स्थिति का पालन करना चाहिए. हमारी तीनों सेनाएं किसी भी तरह के हालात से निपटने के लिए पूरी तरह तैयार हैं. मौजूदा समय में हमारे लिए चीन से लगने वाली उत्तरी सीमा अहम है लेकिन हम पाकिस्तान के साथ लगने वाली सरहद की अनदेखी भी नहीं कर सकते.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें