scorecardresearch
 

'यूपी में जो डेंगू फैल रहा, वो D2 कैटेगरी का, ये जानलेवा होता है', सरकार ने चेताया

यूपी के फिरोजाबाद, मथुरा और आगरा समेत कई जिलों में डेंगू का कहर जारी है. इस बीच स्वास्थ्य मंत्रालय ने गुरुवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि यूपी में जो डेंगू फैल रहा है, वो D2 कैटेगरी का है. आईसीएमआर के डीजी डॉ. बलराम भार्गव ने कहा कि ये जानलेवा होता है.

यूपी में डेंगू से हालात बिगड़ते जा रहे हैं. (फोटो-PTI) यूपी में डेंगू से हालात बिगड़ते जा रहे हैं. (फोटो-PTI)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • यूपी के कई जिलों में डेंगू का कहर जारी
  • सरकार ने कहा, D2 डेंगू जानलेवा होता है

यूपी के फिरोजाबाद, मथुरा और आगरा समेत कई जिलों में डेंगू (Dengue) का कहर जारी है. इस बीच स्वास्थ्य मंत्रालय (Health Ministry) ने गुरुवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि यूपी में जो डेंगू फैल रहा है, वो D2 कैटेगरी का है. आईसीएमआर के डीजी डॉ. बलराम भार्गव ने कहा कि ये जानलेवा होता है.

आईसीएमआर के डीजी डॉ. बलराम भार्गव ने बताया कि सैंपल में डेंगू का D2 स्ट्रेन पाया गया है, जो घातक और जानलेवा होता है. उन्होंने कहा कि इससे बचने के लिए मच्छरों को पनपने न दें. पानी को जमा न होने दें, जिससे मच्छर उसमें पनपें. ये सब मॉनसून सीजन में ज्यादा होता है, इसलिए हमें इससे सावधान रहना जरूरी है.

वहीं, नीती आयोग के सदस्य डॉ. वीके पॉल ने कहा कि मच्छरों की वजह से बीमारियां उभरकर आ रहीं हैं. डेंगू के बारे में आपको पता ही है. बरसात के बाद मलेरिया का सीजन भी आना शुरू होता है. इसलिए अपील करना चाहेंगे कि अपनी तैयारी ऐसी रखें कि मच्छरों से होने वाली बीमारियां जैसे डेंगू, मलेरिया से बचें. आसपास पानी इकट्ठा नहीं होने दें.

ये भी पढ़ें-- UP: फिरोजाबाद में डेंगू का कहर, वायरल बुखार को भगाने के लिए अब लोग कर रहे हवन पूजन

उन्होंने कहा कि कोई भी बुखार हो. बुखार हो तो देर नहीं करना चाहिए. बुखार कोविड भी हो सकता है. डेंगू भी हो सकता है और मलेरिया भी हो सकता है. हमें इसे सीरियस लेना चाहिए. उन्होंने कहा कि डेंगू से जान भी जाती है और हमारे पास उसकी वैक्सीन भी नहीं है. इसलिए बचाव ही सबसे बड़ा उपाय है. उन्होंने कहा कि इन बीमारियों से लड़ाई हमें कोविड के साथ-साथ लड़ना है.

डॉ. पॉल ने उन लोगों से कोरोना वैक्सीन लगवाने की अपील की, जिन्होंने अभी तक वैक्सीन नहीं ली है. उन्होंने बताया कि पहली खुराक से कोविड संक्रमण से मौत की आशंका 96.6% कम और दूसरी खुराक से 97.5% रह जाती है. यानी सिर्फ ढाई फीसदी खतरा रह जाता है.

स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि देश में कोरोना की संक्रमण दर लगातार नीचे आ रही है. लगातार 10वें हफ्ते वीकली पॉजिटिविटी रेट में गिरावट आई है. स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने बताया कि पिछले हफ्ते देश में कुल कोरोना मामलों के 69% मामले केरल से आए थे.  

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें