scorecardresearch
 

कोरोना वायरसः भारत में फैटेलिटी रेट 2 फीसदी से कम- स्वास्थ्य मंत्रालय

स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से यह भी कहा गया है कि फैटेलिटी रेट को एक फीसदी से भी कम करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है.

कोरोना का कहर जारी (फाइल फोटोः पीटीआई) कोरोना का कहर जारी (फाइल फोटोः पीटीआई)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • कहा- 1 फीसदी के नीचे लाना लक्ष्य
  • कई राज्यों 1 से कम फैटेलिटी रेट 
  • फैटेलिटी रेट वैश्विक स्तर पर 3.2

कोरोना वायरस की महामारी कहर बरपा रही है. संक्रमितों की तादाद तेजी से बढ़ती ही जा रही है. देश में कोरोना संक्रमितों के साथ ही मृतकों की बढ़ती तादाद के बीच स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि भारत में फैटेलिटी रेट दो फीसदी के नीचे है.

स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक देश में फैटेलिटी रेट 1.64 फीसदी है. यह दुनिया के अन्य देशों की तुलना में काफी कम है. स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक वैश्विक स्तर पर देखें तो फैटेलिटी रेट का औसत 3.2 फीसदी है.

स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से यह भी कहा गया है कि फैटेलिटी रेट को एक फीसदी से भी कम करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है. स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि देश के कई राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में फैटेलिटी रेट एक फीसदी से भी कम है.

स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से यह बयान ऐसे समय आया है, जब देश में कोरोना के कारण जान गंवाने वालों की तादाद 80 हजार के पार पहुंच चुकी है. देश में कोरोना संक्रमितों की तादाद 49 लाख 30 हजार के पार पहुंच चुकी है.

कोरोना के कारण पिछले 24 घंटे में 1054 लोगों की जान गई है. इसी अवधि में कोरोना वायरस से संक्रमण के 83809 नए मामले सामने आए हैं. हालांकि राहत की बात यह है कि देश में 9 लाख 90 हजार के करीब एक्टिव केस हैं.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें