scorecardresearch
 

भारत की कूटनीति और आर्मी का दिखा दम, पूर्वी लद्दाख में फिंगर 4 से पीछे हटी चीनी सेना, हटाए ढांचे

एलएसी पर टेंशन बढ़ने के बाद चीन द्वारा फिंगर 5 और 6 के बीच ज्यादा से ज्यादा नावों के ठहरने के लिए बनाए गए तमाम प्लेटफॉर्म भी अब वहां मौजूद नहीं हैं. अब ऐसे जेट्टियां फिंगर 8 के पीछे हैं. गौरतलब है कि पैंगोंग लेक के पास स्थित फिंगर 8 तक के क्षेत्र पर भारत अपना दावा करता है.

X
प्रतीकात्मक तस्वीर (फोटो: रॉयटर्स) प्रतीकात्मक तस्वीर (फोटो: रॉयटर्स)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • लद्दाख में चीनी सेना हटने लगी है पीछे
  • फिंगर 4 एरिया चीनी सेना ने किया खाली
  • अपने सभी स्ट्रक्चर भी चीनी सेना ने हटाए

भारत-चीन के बीच जारी कई महीनों के गतिरोध के बाद एलएसी पर स्थिति सामान्य करने की कवायद अब तेज हो गई है. ताजा जानकारी के मुताबिक पूर्वी लद्दाख में पैंगोंग झील के पास स्थित फिंगर 4 एरिया से चीनी सैनिक वापस लौट गए हैं. गौरतलब है कि पैंगोंग झील के उत्तरी किनारे पर स्थित इस महत्वपूर्ण पहाड़ी पर चीनी सैनिकों ने लंबे समय से कब्जा कर रखा था.

इंडिया टुडे से एक सुरक्षा अधिकारी ने बताया, "फिंगर 4 एरिया में चीनी सैनिकों की काफी कमी हो गई है. चीन ने फिंगर 5 और फिंगर 8 के बीच अपने कई शेल्टर्स और अन्य स्ट्रक्चर्स को भी हटा दिया है." अधिकारियों ने यह भी कहा कि तनाव के वक्त अतिरिक्त नावों के लिए जो ठिकाने चीन द्वारा बनाए गए थे, उन्हें भी हटा दिया गया है.

एलएसी पर टेंशन बढ़ने के बाद चीन द्वारा फिंगर 5 और 6 के बीच ज्यादा से ज्यादा नावों के ठहरने के लिए बनाए गए तमाम प्लेटफॉर्म भी अब वहां मौजूद नहीं हैं. अब ऐसे जेट्टियां फिंगर 8 के पीछे हैं. गौरतलब है कि पैंगोंग लेक के पास स्थित फिंगर 8 तक के क्षेत्र पर भारत अपना दावा करता है.

चीनी सेना द्वारा उठाए गए इस कदम के साथ ही भारतीय सेना भी उन स्थानों पर, जहां आमने-सामने जैसी स्थिति थी, सैनिकों की संख्या को कम करने के साथ पीछे हट गई है.

पैंगोंग लेक के दक्षिणी किनारे से टैंक भी हटा दिए गए हैं. सूत्रों ने कहा कि दक्षिणी तट पर कुछ इलाकों में दोनों सेनाओं के टैंकों के बीच केवल 100 मीटर की दूरी ही रह गई थी, अब उन्हें दोनों तरफ से पूरी तरह वापस खींच लिया गया है और अब वे कुछ किलोमीटर दूर हैं.

डिसएंगेजमेंट प्लान के मुताबिक चीन फिंगर 8 तक जाएगा और भारत धन सिंह थापा पोस्ट के पास फिंगर 3 पर जाएगा. इसके साथ ही पैंगोंग लेक के दक्षिणी किनारे से तैनाती भी वापस ले ली जाएगी. इसके अलावा दोनों तरफ से कोई भी गश्त तब तक नहीं लगेगी जब तक हालात सामान्य नहीं हो जाते.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें