scorecardresearch
 

'BJP ऑफिस में सिक्योरिटी रखना होगा तो अग्निवीरों को प्राथमिकता देंगे', इस बयान पर घिर गए कैलाश विजयवर्गीय

Agnipath Scheme: अग्निपथ योजना को लेकर पूरे देश में विरोध प्रदर्शन जारी है. इसी बीज आज तीनों सेनाओं के प्रमुखों ने एक संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस करके साफ कहा है कि ये योजना वापस नहीं होगी. इसके साथ ही भर्ती की तारीखों का भी ऐलान कर दिया है.

X
कैलाश विजयवर्गीय ने बाद में सफाई भी दी है. कैलाश विजयवर्गीय ने बाद में सफाई भी दी है.
स्टोरी हाइलाइट्स
  • अग्निपथ योजना पर बवाल
  • कैलाश विजयवर्गीय बयान देकर घिरे

अग्निपथ योजना को लेकर आज देश में जारी विरोध प्रदर्शनों के बीच बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय भी विवादों में घिर गए हैं. दरअसल उनका एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है जिसमें वो कहते दिख रहे हैं कि अगर उनको बीजेपी ऑफिस में सिक्योरिटी रखना होगा तो वो अग्निवीरों को प्राथमिकता देंगे. दरअसल इंदौर में बीजेपी नेता अग्निपथ योजना की खास बातें समझाने की कोशिश कर रहे थे. इस दौरान उन्होंने यह बयान दे दिया.

कैलाश विजयवर्गीय के इस बयान पर पीलीभीत से बीजेपी सांसद वरुण गांधी और कांग्रेस ने घेर लिया है. सोशल मीडिया पर ही कांग्रेस की ओर से जवाब दिया गया, 'अग्निपथ को लेकर सारी शंकाए दूर कर दी- भाजपा के कैलाश विजयवर्गीय ने. ये सत्याग्रह इसी मानसिकता के खिलाफ है.'

वहीं वरुण गांधी ने भी ट्विटर पर वीडियो शेयर करते हुए अपनी पार्टी के नेता पर इशारों-इशारों में तंज कसा है. उन्होंने कहा, ' जिस महान सेना की वीर गाथाएं कह सकने में समूचा शब्दकोश असमर्थ हो, जिनके पराक्रम का डंका समस्त विश्व में गुंजायमान हो, उस भारतीय सैनिक को किसी राजनीतिक दफ़्तर की ‘चौकीदारी’ करने का न्यौता, उसे देने वाले को ही मुबारक.  भारतीय सेना माँ भारती की सेवा का माध्यम है, महज एक ‘नौकरी’ नहीं. 

कैलाश विजय वर्गीय के बयान पर असदुद्दीन ओवैसी ने भी ट्वीट कर कहा कि बीजेपी नेता सैनिकों को चौकीदार के तौर पर अपने ऑफिस में रखने की बात कह रहे हैं.  एक सम्मानित नौकरी करने वाले सैनिकों को मोदी की पार्टी यही इज्जत देती है? ओवैसी ने आगे कहा, 'अफसोस है कि सरकार में एक ऐसी पार्टी है. हमारी सेनाएं पाकिस्तान की तरह कभी राजनीति शामिल नही रही हैं. यही हमारे लोकतंत्र की ताकत है. लेकिन युवाओं के समस्या को सुलझाने के बदले ऐसा करके बीजेपी एक खतरनाक खेल रही है. हमने बिना किसी प्लान के नोटबंदी और लॉकडाउन जैसे लिए गए फैसलों का बुरा असर अर्थव्यवस्था और समाज में देखा है. क्या प्रधानमंत्री का कार्यालय यही अब राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए भी करना चाहता है?

हालांकि विवाद बढ़ता देश बीजेपी नेता कैलाश विजयवर्गीय ने सफाई देने में भी देर नहीं लगाई. उन्होंने ट्विटर पर कहा,' अग्निपथ योजना से निकले अग्निवीर निश्चित तौर पर प्रशिक्षित एवं कर्तव्य के प्रति प्रतिबद्ध होंगे, सेना में सेवाकाल पूर्ण करने के बाद वह जिस भी क्षेत्र में जायेंगे वहां उनकी उत्कृष्टता का उपयोग होगा.  मेरा आशय स्पष्ट रूप से यही था. इसके बाद उन्होंने एक दूसरे ट्वीट में 'टूलकिट' का जिक्र करते हुए कहा कि उनके बयान को तोड़-मरोड़कर पेश किया जा रहा है.

कैलाश विजयवर्गीय ने कहा, ' टूलकिट से जुड़े लोग मेरे बयान को तोड़ मरोड़कर प्रस्तुत करके कर्मवीरों का अपमान करने की कोशिश कर रहे हैं. यह देश के कर्मवीरों का अपमान होगा.  राष्ट्रवीरो-धर्मवीरों के ख़िलाफ़ इस टूलकिट गैंग के षड्यंत्रों को देश भली भांति जानता है. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें