scorecardresearch
 

अब यूपी विधानसभा में नमाज तो बिहार में हनुमान चालीसा के लिए कमरे की मांग, झारखंड के बाद छिड़ा है संग्राम

झारखंड के बाद अब उत्तर प्रदेश और बिहार में भी विधानसभा में पूजा के लिए स्पेशल रूम की मांग उठी है. कानपुर के विधायक ने जहां यूपी विधानसभा में नमाज के लिए अलग कमरा मांगा है, तो वहीं बिहार बीजेपी के विधायक ने हनुमान चालीसा पाठ के लिए कमरे की मांग की है.

झारखंड विधानसभा के बाहर बीजेपी विधायकों ने किया था कीर्तन (PTI) झारखंड विधानसभा के बाहर बीजेपी विधायकों ने किया था कीर्तन (PTI)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • बिहार बीजेपी विधायक ने की मांग
  • "हनुमान चालीसा पाठ के लिए मिले कमरा"
  • कानपुर MLA ने नमाज रूम की मांग की

झारखंड की विधानसभा में नमाज़ पढ़ने के लिए अलग कमरा अलॉट होने को लेकर विवाद जारी है. अब इस मसले पर उत्तर प्रदेश और बिहार तक चर्चा होनी शुरू हो गई है और यहां कि विधानसभा में भी ऐसी व्यवस्था की मांग की जा रही है. 

उत्तर प्रदेश के कानपुर के विधायक इरफान सोलंकी द्वारा मांग की गई है कि यूपी की विधानसभा में भी इसी तरह की व्यवस्था होनी चाहिए. सपा विधायक ने कहा कि सत्र के दौरान नमाज़ पढ़ने में दिक्कत होती है, ऐसे में आस्था को ध्यान में रखते हुए ये सही फैसला होगा. 

‘हनुमान चालीसा पाठ के लिए मिले कमरा’

यूपी के अलावा बिहार में भी इस मसले पर चर्चा जारी है. भारतीय जनता पार्टी के विधायक हरिभूषण ठाकुर ने मांग की है कि बिहार विधानसभा में हनुमान चालीसा का पाठ करने के लिए अलग कमरा बनाया जाए, साथ ही मंगलवार की छुट्टी भी घोषित कर दी जाए.

बीजेपी विधायक ने कहा कि संविधान सभी को बराबरी का हक देता है, अगर नमाज़ के लिए कमरा मिल रहा है तो हनुमान चालीसा के लिए क्यों नहीं. हरिभूषण ठाकुर का कहना है कि वह इस मसले पर विधानसभा अध्यक्ष से बात करेंगे, हर किसी को पूजा का अधिकार समान है. 

बीजेपी विधायक हरिभूषण ठाकुर


इस पूरे विवाद पर बिहार के पूर्व विधानसभा अध्यक्ष और शिक्षा मंत्री विजय चौधरी ने कहा कि जो असल नमाजी होते हैं, उनको जगह ढूंढने की जरूरत नहीं होती, वो कहीं भी नमाज पढ़ सकते हैं. उसी तरह जिसको माला जपना है या पूजा करनी है, वो कहीं भी कर सकते हैं. उन्होंने यह भी कहा कि इस तरह के बांटने वाले लोगों से सावधान रहने की जरूरत है.

बीजेपी की इस मांग पर राजद ने पलटवार किया है. राजद के मृत्युंजय तिवारी का कहना है कि झारखंड में परिस्थितियों को देखते हुए फैसला लिया गया है, जरूरत पड़ी तो चंडी पाठ के लिए भी कमरा अलॉट किया जा सकता. नमाज़ के लिए कमरा अलॉट करना राजनीति का विषय नहीं है. 

राजद नेता ने कहा कि बीजेपी विधायक किससे मांग कर रहे हैं, उनकी ही सरकार है, करा लें. प्रधानमंत्री से कहकर संसद में इसकी व्यवस्था करा दें. नीतीश कुमार से कहकर विधानसभा में व्यवस्था कर दें, हम ऐसी चीजों का समर्थन नहीं कर सकते, बीजेपी के लोग समाज में नफरत फैला रहे हैं. 

झारखंड में बीजेपी का हंगामा जारी, कोर्ट तक पहुंचा विवाद

झारखंड विधानसभा में नमाज के लिए आवंटित किए गए कमरे पर उठा विवाद और गतिरोध बरकरार है. BJP द्वारा लगातार मॉनसून सत्र को बाधित करने का सिलसिला जारी है. सोमवार को BJP विधायकों ने ढोल, झाल के साथ भजन कीर्तन किया तो मंगलवार को हनुमान चालीसा का पाठ सदन के बाहर और अंदर विधायक करते दिखे. B

JP विधायक अपने स्टैंड को सही ठहरा रहे हैं. उनका कहना है कि वे मजबूरी में भजन, कीर्तन और हनुमान चालीसा कर रहे हैं. सरकार ने धर्म विशेष के लिए कमरा आवंटित क्यों किया, देश में जितना धर्म और धर्मावलंबी हैं, क्या सरकार सबको जगह देगी या किसी एक को ही.

झारखंड विधानसभा में नमाज पढ़ने के लिए कमरा आवंटित करने का मामला झारखंड हाईकोर्ट पहुंच गया है. रांची के भैरव सिंह ने झारखंड हाईकोर्ट में जनहित याचिका दायर कर विधानसभा में नमाज पढ़ने के लिए आवंटित कमरे के लिए दिए गए आदेश को चुनौती दी है. 

याचिका के माध्यम से अदालत को बताया है कि विधानसभा अध्यक्ष को यह अधिकार नहीं है कि वह किसी धर्म विशेष के लिए विधानसभा में कमरा आवंटित किया जाए. उनका कहना है कि जनता के पैसे से बने हुए कोई भी भवन किसी धर्म विशेष के लिए आवंटित नहीं किया जा सकता है.
 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
ऐप में खोलें×