scorecardresearch
 

बसंत पंचमी के मौके पर भक्तिमय हुआ माहौल, लोगों ने लगाई आस्था की डुबकी

हरिद्वार स्थित हरी की पौड़ी में लोग सुबह से ही गंगा स्नान करते नजर आए. तीर्थनगरी हरिद्वार में इस मौके पर 'कुंभ महोत्सव 2021' का आयोजन किया गया है.  भारी संख्या में लोग यहां स्नान के लिए पहुंचे हैं. कोरोना महामारी संकट के बीच यहां प्रशासन ने एहतियात भरे निर्देश जारी किए हैं.

X
बसंत पंचमी के मौके पर वाराणसी में गंगा किनारे लोगों की भीड़. (फोटो-ANI) बसंत पंचमी के मौके पर वाराणसी में गंगा किनारे लोगों की भीड़. (फोटो-ANI)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • वाराणसी में भी दिखा श्रद्धालुओं का हुजूम
  • हरी की पौड़ी में भी भक्त लगा रहे आस्था की डुबकी
  • उत्तराखंड में कोरोना को देखते हुए सख्ती

देशभर में आज यानी मंगलवार को बसंत पंचमी की धूम है. बसंत पंचमी के मौके पर देशभर में भक्तिमय माहौल है. इस पर्व के मौके पर लोगों ने आस्था की डुबकी लगाई. वाराणसी में गंगा किनारे सैकड़ों की संख्या में लोग डुबकी लगाते नजर आए.

ऐसा ही कुछ माहौल उत्तराखंड के हरिद्वार में भी दिखा. इससे पहले 11 फरवरी को मौनी अमावस्या के मौेके पर भी पवित्र स्थलों पर श्रद्धालुओं की भीड़ नजर आई थी.

हरिद्वार स्थित हरी की पौड़ी में लोग सुबह से ही गंगा स्नान करते नजर आए. तीर्थनगरी हरिद्वार में इस मौके पर 'कुंभ महोत्सव 2021' का आयोजन किया गया है. भारी संख्या में लोग यहां स्नान के लिए पहुंचे हैं. कोरोना महामारी संकट के बीच यहां प्रशासन ने एहतियात भरे निर्देश जारी किए हैं. पर्व स्नानों को देखते हुए मेला क्षेत्र को सात अलग-अलग ज़ोन और 20 सेक्टर्स में बांट दिया गया है. इसके साथ ही अधिकारियों की जिम्मेदारी भी तय कर दी गई है. 

हरिद्वार में श्रद्धालुओं को 72 घंटे पूर्व की कोविड-19 (RT-PCR) की नेगेटिव रिपोर्ट दिखानी होगी जिसके बाद ही उन्हें अदंर एंट्री मिल सकेगी. इसके अलावा 65 वर्ष से अधिक उम्र के श्रद्दालुओं, गर्भवती महिलाओं और 10 साल से छोटे बच्चों को कुंभ स्नान के लिए न आने की सलाह दी गई है. हरिद्वार की सीमा में प्रवेश से पहले आने वाले लोगों की चेकिंग भी की जा रही है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें