scorecardresearch
 

महाराष्ट्र में अब रामलीला पर रार, BJP विधायकों की मांग- आयोजन की अनुमति दे सरकार

बीजेपी विधायक भातखलकर ने कहा है कि खुद को हिंदुत्ववादी और रामभक्त बोलने वाले मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को रामलीला की अनुमति देनी चाहिए.

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (फाइल फोटोः पीटीआई) मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (फाइल फोटोः पीटीआई)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • अतुल भातखलकर ने किया उद्धव पर तंज
  • राम कदम ने अनुमति के लिए लिखा पत्र
  • मंदिर खोले जाने की अनुमति देने की मांग

महाराष्ट्र में मंदिर खोलने के मुद्दे पर सियासी संग्राम के बाद अब रामलीला पर रार शुरू हो गई है. भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के विधायक अतुल भातखलकर और राम कदम ने राज्य सरकार से रामलीला के आयोजन के लिए अनुमति देने की मांग की है. बीजेपी विधायक भातखलकर ने कहा है कि खुद को हिंदुत्ववादी और रामभक्त बोलने वाले मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को रामलीला की अनुमति देनी चाहिए.

उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र में बार, रेस्टोरेंट, मॉल और मेट्रो को अनुमति दे दी गई है. लेकिन मंदिरों को अभी भी बंद रखा है. भातखलकर ने कहा कि पूरे महाराष्ट्र में रामलीला के आयोजन की कोरोना को लेकर जरूरी नियमों के साथ अनुमति दी जानी चाहिए. उन्होंने उम्मीद जताई कि खुद को हिंदुत्ववादी और रामभक्त बताने वाले मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे इस दिशा में सकारात्मक निर्णय लेंगे.

भातखलकर के अलावा बीजेपी के एक और विधायक राम कदम ने भी सरकार से रामलीला के लिए अनुमति देने की मांग करते हुए कहा कि कोरोना से बचाव के लिए जरूरी शर्तों के साथ अनुमति देने की मांग की. उन्होंने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को पत्र लिखकर कहा है कि मंदिरों को खोला जाना चाहिए, जिससे लोग इस कठिन समय में प्रार्थना कर सकें.

देखें: आजतक LIVE TV

राम कदम ने अपने पत्र में कहा है कि इस कठिन समय में रामलीला की अनुमति भी दी जानी चाहिए. गौरतलब है कि महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को पत्र लिखकर हिंदुत्व की याद दिलाते हुए मंदिर खोलने के लिए हस्तक्षेप करने की मांग की थी. इसपर शिवसेना ने पलटवार करते हुए कहा था कि हमें किसी से हिंदुत्व का सर्टिफिकेट नहीं चाहिए.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें