scorecardresearch
 

राम चरण रज से बनाई राम मूर्ति, अयोध्या की रामलीला का मंगलाचरण होगी!

ये प्रतिमा जाने माने मूर्तिकार नरेश कुमावत ने तैयार की है. अब तक नरेश कुमावत ने करीब 60 देशों में देवी-देवताओं और राजनेताओं की विशाल प्रतिमाओं को आकार दिया है.

अयोध्या में सरयू घाट पर मूर्ति गढ़ रहे हैं नरेश कुमावत अयोध्या में सरयू घाट पर मूर्ति गढ़ रहे हैं नरेश कुमावत
स्टोरी हाइलाइट्स
  • मूर्तिकार नरेश कुमावत ने तैयार की है मूर्ति
  • 250 मीटर ऊंची राम प्रतिमा भी गढ़ रहे हैं
  • रामलीला में दर्शकों के आने पर रोक है

जहां-जहां इस धरा पर भगवान श्रीराम के चरण पड़े वहां-वहां की मिट्टी को इकठ्ठा करके भगवान राम का श्री विग्रह यानी प्रतिमा तैयार की गई है. अयोध्या में रामलीला के दौरान इसे सुपूजित कर स्थापित किया जाएगा. ये प्रतिमा जाने माने मूर्तिकार नरेश कुमावत ने तैयार की है.

खानदानी मूर्तिकार नरेश कुमावत के पिता मातुराम कुमावत ने भी कई विशाल प्रतिमाएं बनाईं और अब नरेश कुमावत ने भी दुनिया के करीब 60 देशों में देवी-देवताओं और राजनेताओं की विशाल प्रतिमाओं को आकार दिया है. अयोध्या में सरयू तट पर भगवान राम की 250 मीटर ऊंची और हनुमंत लाल की करीब 125 फुट ऊंची प्रतिमा गढ़ रहे हैं. 

अयोध्या की चर्चित रामलीला कमेटी के मुख्य संरक्षक सांसद व बीजेपी नेता प्रवेश साहिब सिंह वर्मा ने बताया कि अयोध्या की रामलीला मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, संस्कृति मंत्री नीलकंठ तिवारी, अयोध्या शोध संस्थान और उत्तर प्रदेश सरकार के सहयोग से हो रही है. अयोध्या की रामलीला में 'मेरी मां फाउंडेशन ' से भी सहायता मिल रही है.

इस बार की रामलीला का मुख्य आकर्षण ये प्रतिमा होगी. मूर्तिकार नरेश कुमावत ने भगवान श्रीराम की मूर्ति बना दी है और अब भगवान की मूर्ति को रंगों से सजाया जा रहा है. भगवान श्री राम की इस मूर्ति को रामलीला के समापन के दिन सरयू नदी में विसर्जित किया जाएगा.

देखें: आजतक LIVE TV

रामलीला कमेटी के अध्यक्ष सुभाष मलिक (बॉबी) ने बताया कि मुंबई से रामलीला का सेट लगाने के लिए हरी भाई भी अयोध्या पहुंच चुके हैं. रामलीला का सेट लगना शुरू हो चुका है. रामलीला में बीजेपी सांसद मनोज तिवारी अंगद और सांसद (गोरखपुर) और फिल्म स्टार रविकिशन भरत की भूमिका में नजर आएंगे. विन्दु दारा सिंह हनुमान, असरानी नारद, रज़ा मुराद अहिरावण, शाहबाज खान रावण के रूप में नजर आएंगे.

अयोध्या की रामलीला के मंचन में दर्शकों को आने की स्वीकृति बिल्कुल नहीं है. रामलीला को सिर्फ सैटलाइट चैनल्स, यूट्यूब चैनल और अन्य सोशल मीडिया चैनल्स पर ही 17 से 25 अक्टूबर तक शाम 7 बजे से 10 बजे तक दिखाया जाएगा और रामलीला समाप्त होने के बाद रिकॉर्ड करके 14 भाषाओं में कन्वर्ट करके यूट्यूब पर दिखाया जाएगा. इस रामलीला का मंचन लक्ष्मण किला (सरयू नदी तट) अयोध्या में होगा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें