scorecardresearch
 

मुंबईः अस्पताल के टॉयलेट में मिला कोरोना मरीज का शव, 14 दिनों से सड़ रही थी लाश

सोमैया ने पुलिस स्टेशन जाकर मामले की छानबीन करने की मांग की. उन्होंने आरोप लगाया कि मरीज 14 दिनों से गायब था लेकिन किसी मेडिकल स्टाफ ने इस संबंध में रिपोर्ट फाइल नहीं की. 

मुंबई के टीबी अस्पताल में 14 दिन से गायब मरीज का मिला शव (फोटो- आजतक) मुंबई के टीबी अस्पताल में 14 दिन से गायब मरीज का मिला शव (फोटो- आजतक)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • 14 दिनों से शौचालय में सड़ती रही लाश
  • अस्पताल प्रशासन को नहीं लगी भनक
  • पूर्व सांसद किरीट सोमैया ने खड़े किए सवाल

मुंबई में एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है. पिछले 14 दिनों से लापता एक कोरोना संक्रमित मरीज का शव सेवरी अस्पताल के एक शौचालय से मिला है. मृत शख्स की उम्र 27 साल थी और वह टीबी (ट्यूबरक्लोसिस) का मरीज था. बृहन्मुंबई महानगरपालिका (बीएमसी) ने इस मामले में उच्चस्तरीय जांच के आदेश दिए हैं और वॉर्ड में काम कर रहे अस्पताल के कर्मचारियों को नोटिस जारी किया है. 

सूत्रों के मुताबिक, 18 अक्टूबर को अस्पताल के वार्ड बॉय ने नोटिस किया कि एक बंद शौचालय से बदबू आ रही थी. जिसके बाद उसने अस्पताल के स्टाफ को इस बात की जानकारी दी. सूत्रों ने बताया कि उन्हें शौचालय के फ्लोर से डिकंपोज बॉडी मिली थी. जिसके बाद अस्पताल स्टाफ ने पुलिस को फोन कर इस बात की जानकारी दी.    

सवाल इस बात को लेकर भी उठाए जा रहे हैं कि मरीज नियमित तौर पर इन शौचालयों का इस्तेमाल कर रहे हैं इसलिए उन्हें दुर्गंध आनी चाहिए थी. अस्पताल प्रशासन के एक स्टाफ ने बताया कि ऐसा लगता है मरीज की मौत नेचुरल कारणों से हुई है. मरीज को टीबी की बीमारी थी और कोरोना पॉजिटिव भी पाया गया था. मरीज के गायब होने की शिकायत 4 अक्टूबर को दर्ज कराई गई थी. ऐसा लगता है कि मरीज जब शौचालय पहुंचा तो उसे सांस लेने संबंधी दिक्कत आई और इसी वजह से उसकी जान चली गई. 

देखें: आजतक LIVE TV 

आरएके मार्ग पुलिस स्टेशन के वरिष्ठ निरीक्षक सुनील सोहोनी ने आजतक से बात करते हुए कहा कि हमलोग अस्पताल के स्टाफ को बुलाएंगे और पूछेंगे कि यह सब कैसे हुआ? हमलोग यह पता लगाएंगे कि अस्पताल के अंदर इतने दिनों तक मृत शरीर पड़ा रहा और किसी को कोई जानकारी नहीं मिली. 

भारतीय जनता पार्टी के पूर्व सांसद किरीट सोमैया ने इस मामले को लेकर संबंधित अस्पताल का दौरा किया और वहां वरिष्ठ डॉक्टरों से मुलाकात कर यह जानने की कोशिश की कि आखिर क्या वजह थी कि मरीज का शव 14 दिन तक अस्पताल में पड़ा रहा और अस्पताल प्रशासन को इसकी भनक तक नहीं लगी.

सोमैया ने बाद में पुलिस स्टेशन भी जाकर मामले की छानबीन करने की मांग की. उन्होंने आरोप लगाया कि मरीज 14 दिनों से गायब था लेकिन किसी मेडिकल स्टाफ ने इस संबंध में रिपोर्ट फाइल नहीं की. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें