scorecardresearch
 

हरियाणा निगम चुनावों में बीजेपी-JJP के बाद निर्दलीयों का बोलबाला, AAP का खुला खाता

Haryana municipal elections Result: हरियाणा नगर निकाय चुनाव में बीजेपी ने 22 सीटों पर जीत हासिल की. जबकि जेजेपी को 3 सीटें मिलीं. वहीं, आम आदमी पार्टी भी खाता खोलने में सफल रही. पार्टी को 1 सीट मिली. इसके अलावा एक सीट INLD को मिली. 19 सीटों पर निर्दलीय जीतने में सफल रहे.

X
हरियाणा सीएम मनोहर लाल खट्टर और डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला हरियाणा सीएम मनोहर लाल खट्टर और डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला
स्टोरी हाइलाइट्स
  • हरियाणा नगर निकाय चुनाव में बीजेपी-जेजेपी का परचम
  • सत्ताधारी गठबंधन ने 46 सीटों में से 25 पर जीत हासिल की

हरियाणा नगर निकाय चुनाव में बीजेपी-जेजेपी आधे से ज्यादा शहरों में अपना कब्जा जमाने में कामयाब रही. दोनों पार्टियों ने 46 सीटों में से 25 पर जीत हासिल की है. हरियाणा में रविवार को 18 नगर परिषद और 28 नगर पालिकाओं पर अध्यक्ष पद के लिए चुनाव हुआ था. 

उधर, सीएम मनोहर लाल खट्टर ने जीतने वाले प्रत्याशियों को बधाई दी. उन्होंने कहा, नतीजे दिखाते हैं कि लोगों का विश्वास बीजेपी पर है. चुनाव आयोग के मुताबिक, बीजेपी ने 22 सीटों पर जीत हासिल की. जबकि जेजेपी को 3 सीटें मिलीं. वहीं, आम आदमी पार्टी भी खाता खोलने में सफल रही. पार्टी को 1 सीट मिली. इसके अलावा एक सीट INLD को मिली. 19 सीटों पर निर्दलीय जीतने में सफल रहे. 

चुनाव आयोग के मुताबिक, 18 नगर परिषद की सीटों में से बीजेपी ने 10 पर जीत हासिल की. जेजेपी को 1, INLD को 1 सीट मिली. 6 निर्दलियों ने भी जीत हासिल की. वहीं, 28 नगर पालिकाओं में बीजेपी ने 12, जेजेपी ने 2, आप ने 1, निर्दलियों ने 13 पर जीत हासिल की. 
 
इस चुनाव में जहां बीजेपी, जेजेपी, INLD और आप के उम्मीदवार पार्टी के चुनाव चिन्ह के साथ लड़े थे. वहीं, कांग्रेस ने इस चुनाव में हिस्सा नहीं लिया था. हालांकि, कुछ कांग्रेसियों और कार्यकर्ताओं ने कही जगहों पर निर्दली उम्मीदवारों का समर्थन किया था. आम आदमी पार्टी ने इस्माईलाबाद कुरुक्षेत्र में जीत हासिल की. 
 
सीएम खट्टर ने कहा, मैं बीजेपी के जीते हुए प्रत्याशियों को बधाई देता हूं. यह जीत लोगों के विश्वास की जीत है, जो वे 2014 के बाद से लगातार बीजेपी पर दिखा रहे हैं. यह जीत पार्टी के कार्यकर्ताओं को समर्पित की है. उन्होंने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि उन्हें नहीं लगता है कि अग्नीपथ योजना के खिलाफ विरोध का असर इन चुनावों पर पड़ा है. 
 
उन्होंने कहा, युवाओं को यह समझ आ गया है कि यह स्कीम देश के हित में है. यहां तक कि सेना में भर्ती बड़े अफसरों ने भी यह कहा है कि इस योजना का लाभ देश को भविष्य में मिलेगा. उन्होंने कहा, बीजेपी और जेजेपी ने कांग्रेस विधायकों के क्षेत्रों में 12 सीटें जीती हैं. उन्होंने कांग्रेस के चुनाव न लड़ने को लेकर कहा कि विपक्ष को पता था कि वह हार जाएंगे इसलिए इस चुनाव से भाग गए. 

हरियाणा विधानसभा की बात करें तो 90 सीटों वाले राज्य में बीजेपी के पास 40, जेजेपी के पास 10, कांग्रेस के पास 31 सीटें हैं. वहीं, 7 विधायक निर्दलीय हैं. जबकि INLD और हरियाणा लोकहित पार्टी का 1-1 विधायक है. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें