scorecardresearch
 

अहमदाबाद: जिग्नेश ने CM से पूछा- नागरिकता के दस्तावेज हैं? रुपाणी बोले, भारतीय पासपोर्ट है

नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के समर्थन में प्रस्ताव पास कराने के लिए शुक्रवार को गुजरात विधानसभा का विशेष सत्र बुलाया गया. इस दौरान कांग्रेस ने विभिन्न मुद्दों पर बीजेपी सरकार को घेरने की कोशिश की. वहीं गुजरात के निर्दलीय विधायक जिग्नेश मेवाणी ने विधानसभा के अंदर CAA-NRC-NPR को लेकर जमकर हंगामा किया.

गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी और जिग्नेश मेवाणी (फाइल फोटो) गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी और जिग्नेश मेवाणी (फाइल फोटो)

  • गुजरात विधानसभा में CAA-NRC-NPR पर भारी हंगामा
  • जिग्नेश मेवाणी ने सदन में फाड़े CAA संबंधी दस्तावेज

नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के समर्थन में प्रस्ताव पास कराने के लिए शुक्रवार को गुजरात विधानसभा का विशेष सत्र बुलाया गया. इस दौरान कांग्रेस ने विभिन्न मुद्दों पर बीजेपी सरकार को घेरने की कोशिश की. वहीं गुजरात के निर्दलीय विधायक जिग्नेश मेवाणी ने विधानसभा के अंदर CAA-NRC-NPR को लेकर जमकर हंगामा किया. मेवाणी ने इसे काला कानून बताते हुए विधानसभा के अंदर सीएए संबंधी कागजात फाड़ दिए.

सीएम से पूछा-क्या हैं नागरिकता के दस्तावेज

विधानसभा के अंदर कॉपी को फाड़ते हुए जिग्नेश मेवाणी ने कहा, 'वर्मा से आए गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी साहब अपनी नागरिकता सिद्ध करने के लिए क्या अपने माता पिता के दस्तावेज जनता के सामने रखेंगे? यह कहते हुए हमने आज गुजरात विधानसभा में काले कानून को फाड़ दिया.' इसके बाद सीएम रुपाणी ने कहा, 'मेरे माता-पिता के पास भारतीय पासपोर्ट था. इसलिए मेरे जन्म के वक्त ही मेरा नाम भारतीय के तौर पर दर्ज हो चुका है.'

बता दें कि गुजरात में जिग्नेश मेवाणी और कांग्रेस लगातार CAA का विरोध कर रहे हैं. कांग्रेस ने शुक्रवार को गुजरात विधानसभा में राज्यपाल के भाषण का भी जमकर विरोध किया. कांग्रेस ने भाषण के दौरान ही अपनी मांग राज्यपाल के सामने रखी थी. कांग्रेस का कहना था कि गुजरात में किसान, बच्चों की मौत जैसे अहम मुद्दों पर विधानसभा में चर्चा होनी चाहिए न कि CAA-NRC जैसे प्रस्ताव को पास करने और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह का आभार व्यक्त करने के लिए.

कहां जन्मे विजय रुपाणी?

बता दें कि विजय रुपाणी का जन्म 2 अगस्त 1956 को यंगून म्यांमार (वर्मा) में हुआ था. उनके माता-पिता रमणिकलाल और माया बेन रुपाणी 1960 में वर्मा की बिगड़ती राजनीतिक हालात की वजह से भारत आ गए थे, और गुजरात के राजकोट शहर को उन्होंने अपना ठिकाना बनाया था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें