scorecardresearch
 

कांग्रेस की गुजरात की दोनों राज्यसभा सीटों पर एक साथ चुनाव कराने की मांग

अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि हम चुनाव आयोग से अमित शाह और स्मृति ईरानी की सीट पर एक साथ चुनाव कराने का अनुरोध करना चाहते हैं, बजाय दो अलग-अलग समय पर.

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अभिषेक मनु सिंघवी (फाइल फोटो) कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अभिषेक मनु सिंघवी (फाइल फोटो)

कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने गुजरात में राज्यसभा की दोनों सीटों के लिए एक साथ चुनाव कराने की मांग की है. सिंघवी ने दावा किया कि उन्हें विश्वसनीय सूत्रों से खबर मिली है कि चुनाव आयोग दोनों सीटों पर अलग-अलग समय चुनाव कराने पर विचार कर रहा है.

अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि चुनाव आयोग से अमित शाह और स्मृति ईरानी के इस्तीफे के बाद खाली हुई राज्यसभा की दोनों सीटों पर एक साथ चुनाव न कराना असंवैधानिक होगा.अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि हम चुनाव आयोग से अमित शाह और स्मृति ईरानी की सीट पर एक साथ चुनाव कराने का अनुरोध करना चाहते हैं, बजाय इसके कि दो अलग-अलग समय पर चुनाव हों. अगर एक साथ चुनाव हुए तो एक सीट सत्ताधारी पार्टी और एक सीट विपक्ष जीत सकता है. अगर अलग-अलग समय पर चुनाव हुए तो यह गलत होगा.

सिंघवी ने कहा कि कांग्रेस पार्टी इस मुद्दे को चुनाव आयोग के समक्ष उठाएगी. सोनिया गांधी की ओर से लोकसभा चुनावों पर संदेह जताने के सवाल पर सिंघवी ने कहा कि हम इस बारे में एक सिरे से कोई बड़ा बयान नहीं देना चाहते लेकिन इतना जरूर कहना चाहते हैं कि चुनाव आयोग ने जितना महत्व सत्ता पक्ष को दिया उतना विपक्ष को नहीं दिया. सिंघवी ने कहा कि 80 फीसदी पार्टियों ने इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन पर संदेह जाहिर किया और यह मुद्दा चुनाव आयोग के सामने रखा भी गया. हम ये नहीं कह रहे कि ईवीएम को पूरी तरह से खारिज कर दिया जाए बल्कि इसे वीवीपैट से लिंक करने की हमारी मांग है.

सिंघवी ने कहा कि चुनाव आयोग या सरकार हमें कोई इलेक्ट्रॉनिक मशीन दे सकती है ताकि यह देखा जा सके कि उसके साथ छेड़छाड़ी संभव है या नहीं लेकिन हमें मशीन नहीं दी गई. पार्टी कार्यकर्ताओं के बारे में प्रियंका गांधी के एक बयान से जुड़े सवाल पर सिंघवी ने कहा कि रायबरेली में कांग्रेस कार्यकर्ता चट्टान की तरह एकजुट दिखे लेकिन यूपी के अन्य हिस्सों में ऐसा नहीं दिखा. इसके लिए पार्टी की अंदरूनी जांच चल रही है कि चूक कहां हुई. प्रियंका गांधी ने कहा था कि रायबरेली में कांग्रेस सोनिया गांधी और पार्टी कार्यकर्ताओं की कड़ी मेहनत के कारण जीती थी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें