scorecardresearch
 

ज्ञानवापी मस्जिद, ताजमहल, कृष्ण जन्मभूमि का सच सामने आना चाहिए: RSS नेता

आरएसएस के कार्यकारिणी के सदस्य इंद्रेश कुमार ने कहा है कि ज्ञानवापी, ताजमहल और मथुरा का सच लोगों के सामने आना चाहिए. उन्होंने कहा कि इसके लिए लोगों को कोर्ट की मदद भी करनी चाहिए.

X
इंद्रेश कुमार. -फाइल फोटो इंद्रेश कुमार. -फाइल फोटो
स्टोरी हाइलाइट्स
  • ज्ञानवापी मस्जिद में सोमवार को भी होगा सर्वे
  • ताजमहल के 22 कमरों को खोलने की मांग को कोर्ट ने किया है खारिज

राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ (RSS) के सीनियर नेता इंद्रेश कुमार ने रविवार को कहा कि उत्तर प्रदेश में ज्ञानवापी मस्जिद, ताजमहल और कृष्ण जन्मभूमि और देश के अन्य सभी विवादित स्थानों के बारे में सच्चाई लोगों के सामने आनी चाहिए.

एक कार्यक्रम में शामिल होने के बाद पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने कहा कि लोग इन जगहों के बारे में सच्चाई जानना चाहते हैं क्योंकि उन्हें लगता है कि इससे देश को सही दिशा प्राप्त करने में मदद मिलेगी. उन्होंने कहा कि यह किसी के प्रति किसी द्वेष या किसी राजनीति के कारण नहीं है कि लोग इन जगहों की सच्चाई जानना चाहते हैं.

इंद्रेश कुमार ने पत्रकारों से उनके सवालों के जवाब में कहा कि ज्ञानवापी, ताजमहल, कृष्ण जन्मभूमि और देश के कई अन्य स्थानों के बारे में चर्चा चल रही है. हर कोई सच्चाई (उनके बारे में) जानना चाहता है. आम लोगों को लगता है कि इन जगहों के बारे में जितनी सच्चाई सामने आएगी उतनी ही देश को सही दिशा देने में मदद मिलेगी.

आरएसएस की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य इंद्रेश कुमार ने लोगों से अपनी जाति, समुदाय, क्षेत्र, धर्म और पार्टी से ऊपर उठने और ऐसे विवादों के बारे में सच्चाई सामने लाने में अदालत की मदद करने की अपील की. 

ज्ञानवापी में सोमवार को भी होगा सर्वे

बता दें कि वाराणसी में ज्ञानवापी मस्जिद परिसर का अदालत द्वारा अनिवार्य वीडियोग्राफी सर्वेक्षण रविवार को लगातार दूसरे दिन शांतिपूर्वक किया गया, जिसमें कहा गया कि अभ्यास का अधिकांश हिस्सा पूरा हो चुका है, जो सोमवार को भी जारी रहेगा. सर्वेक्षण पिछले सप्ताह मस्जिद प्रबंधन समिति की आपत्तियों के बीच रोक दिया गया था, जिसमें दावा किया गया था कि सर्वेक्षण के लिए अदालत द्वारा नियुक्त अधिवक्ता आयुक्त को परिसर के अंदर फिल्म बनाने का अधिकार नहीं था

ज्ञानवापी मस्जिद काशी विश्वनाथ मंदिर के करीब स्थित है और स्थानीय अदालत महिलाओं के एक समूह की ओर से इसकी बाहरी दीवारों पर मूर्तियों के सामने दैनिक प्रार्थना की अनुमति मांगने की याचिका पर सुनवाई कर रही है.

ताजमहल के 22 कमरों को खोलने की मांग को कोर्ट ने किया है खारिज

हालांकि, इस सप्ताह की शुरुआत में इलाहाबाद हाई कोर्ट ने ताजमहल के इतिहास और स्मारक के परिसर में 22 कमरों को खोलकर तथ्य-खोज जांच की मांग करने वाली याचिका को खारिज कर दिया था. 

हाई कोर्ट ने हाल ही में श्री कृष्ण जन्मभूमि-शाही ईदगाह मस्जिद विवाद में शीघ्र सुनवाई का निर्देश दिया था. मस्जिद स्थल पर एक हिंदू मंदिर के संकेतों की उपस्थिति की पुष्टि के लिए एक सीनियर वकील कमिश्नर की जल्द नियुक्ति के लिए मथुरा की एक अदालत में पिछले हफ्ते दो आवेदन दायर किए गए थे ताकि कानूनी रूप से मामलों का फैसला करते समय उनके साथ छेड़छाड़ न की जाए.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें