scorecardresearch
 

कोरोना पर PM मोदी ने की देश से अपील- 11 से 14 अप्रैल तक मनाएं 'टीका उत्सव'

पीएम ने कहा कि वैक्सीन लगवाने के बाद भी हमें सख्ती बरतनी होगी. उन्होंने कहा कि वैक्सीन के बाद भी मास्क और सावधानी बरतना भी जरूरी है. 

पीएम नरेंद्र मोदी (तस्वीर- ANI) पीएम नरेंद्र मोदी (तस्वीर- ANI)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • पीएम मोदी ने कहा कि 11 से 14 अप्रैल तक टीका उत्सव मनाएं
  • पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना रोकथाम के लिए माइक्रो कन्टेनमेंट ज़ोन पर फोकस जरूरी

देशभर में कोरोना का खौफनाक मंजर फैला हुआ है. कोरोना ने पिछले सारे रिकॉर्ड तोड़ते हुए पूरे देश में तबाही मचा रखी है. गुरुवार को 1 लाख 26 हजार से ज्यादा नए मामले सामने आए हैं. पिछले 24 घंटे में 685 मौतें दर्ज की गई हैं. इसी के चलते देश के कुछ शहरों में टोटल लॉकडाउन तो ज्यादातर जगह नाइट कर्फ्यू लगाया जा चुका है. वहीं उत्तर प्रदेश में 8400 से ज्यादा नए मामले सामने आए हैं, ऐसे में पीएम नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए प्रदेशों और केंद्र शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों से बातचीत की. इस दौरान हालात की समीक्षा की और आगे की रणनीति पर भी चर्चा की.  

इस दौरान जहां पीएम मोदी ने टेस्टिंग और ट्रेसिंग पर जोर दिया वहीं ज्यादा से ज्यादा लोगों को वैक्सीन लगाने की बात कही. उन्होंने मीटिंग में मौजूद सभी मुख्यमंत्रियों से कहा कि हम 11 अप्रैल ज्योतिबा फुले के जन्मदिवस से लेकर 14 अप्रैल, बाबा साहब आंबेडकर के जन्मदिन तक देश में 'टीका उत्सव' मना सकते हैं.

पीएम ने इस टीका उत्सव के दौरान सभी लोगों के शत-प्रतिशत टीकाकरण कराने की बात कही. उन्होंने इस मामले में देश के युवाओं का भी आह्वान किया कि वो लोग आगे आएं और वैक्सीनेशन के बारे में जागरूकता फैलाएं. पीएम ने कहा कि वैक्सीन लगवाने के बाद भी हमें सख्ती बरतनी होगी. उन्होंने कहा कि वैक्सीन के बाद भी मास्क और सावधानी बरतना जरूरी है. 

माइक्रो कन्टेनमेंट ज़ोन पर फोकस जरूरी
पीएम ने कहा कि दुनिया भर में रात्रि कर्फ्यू को स्वीकार किया गया है, इसे अब हमें नाइट कर्फ्यू को कोरोना कर्फ्यू के नाम से याद रखना चाहिए. वहीं उन्होंने कहा कि कोरोना से रोकथाम के लिए माइक्रो कन्टेनमेंट ज़ोन पर फोकस जरूरी है.  पीएम ने कहा कि इस बार हमारे पास कोरोना से लड़ने के लिए सभी उपाय मौजूद हैं. अब तो वैक्सीन भी है. वहीं पीएम ने नाराजगी जताते हुए कहा कि पहले के मुकाबले लोग इस बार काफी केयरलेस हो रहे हैं. 

टेस्टिंग-ट्रैकिंग सबसे जरूरी
पीएम ने कहा कि हमें टेस्टिंग पर बल देना होगा. हम शुरुआती लक्षण में ही डॉक्टर के पास जाएं. उन्होंने कहा कि कोरोना एक ऐसी चीज है जब तक आप उसे लेकर नहीं आएंगे, यह नहीं आएगा. हमें टेस्टिंग और ट्रैकिंग को बढ़ाना होगा. हमें कैसे भी कर के पॉजिटिविटी रेट को पांच परसेंट से नीचे लेकर आना है.  

70% तक आरटी-पीसीआर टेस्ट का लक्ष्य
पीएम ने कहा कि हमारा टारगेट 70% तक आरटी-पीसीआर टेस्ट का लक्ष्य रखना है. कोरोना से बाहर निकलने का रास्ता ज्यादा टेस्टिंग है. उन्होंने कहा कि पॉजिटिविटी रेट बढ़ने से घबराएं नहीं, टेस्ट जरूर कराएं. जब टेस्ट होगा तभी उसका निवारण किया जा सकेगा. 

पीएम ने कहा कि वैक्सीन लगवाने के बाद भी हमें सख्ती बरतनी होगी. उन्होंने कहा कि वैक्सीन के बाद भी मास्क और सावधानी बरतना जरूरी है. उन्होंने युवाओं का आह्वान करते हुए कहा कि सभी युवा वर्ग टीकाकरण की जागरूकता के लिए आगे आएं और लोगों तक वैक्सीन लेने की बात को पहुंचाएं. 
 

 


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें