scorecardresearch
 

मुंडका अग्निकांडः मोटिवेशनल स्पीच देने आए थे NRI पिता-पुत्र, पल भर में खत्म हो गई जिंदगी

मुंडका हादसे में 27 जिंदगियां खत्म हो गईं. इसमें NRI पिता-पुत्र भी शामिल हैं. शनिवार को अस्पताल में परिजनों ने शव की शिनाख्त की. बता दें कि हादसे के बाद कई लोग लापता हैं.

X
इसी इमारत में हुई थी पिता-पुत्र की मौत इसी इमारत में हुई थी पिता-पुत्र की मौत
स्टोरी हाइलाइट्स
  • हाल ही में ऑस्ट्रेलिया से आए थे अमित जयानी
  • हादसे से पहले गुड़गांव में रुके थे पिता-पुत्र

मुंडका की एक 4 मंजिला इमारत में आग लगी थी. इसमें 27 लोगों की मौत हुई है. मृतकों में मोटिवेशनल स्पीकर पिता-पुत्र भी शामिल हैं. दरअसल इस इमारत में CCTV की फैक्ट्री थी. शुक्रवार को कर्मचारियों के लिए मोटिवेशनल प्रोग्राम का आयोजन किया गया था. इसमें कंपनी के व्यापार को बढ़ाने के लिए कर्मचारियों के सहयोग पर चर्चा की जानी थी. लिहाजा मोटिवेशनल स्पीकर अमित और उनके पिता कैलाश जयानी को बुलाया गया था. अमित NRI हैं, वह ऑस्ट्रेलिया में रहते थे. पिता-पुत्र लोगों को मोटिवेट करने के लिए आए थे, लेकिन हादसे में अपनी जान गांवा बैठे.

हादसे के बाद जब बदहवास परिजन शनिवार को संजय गांधी अस्पताल के बाहर पहुंचे तो उन्होंने शवों की शिनाख्त कर ली. इसके बाद मौके पर ही चीख पुकार मच गई. परिजनों का रो रोकर  बुरा हाल था. 

कैलाश जयानी ने यूट्यूब पर इनफिनिट कैलाश जयानी नाम से अपना चैनल बनाया हुआ था. वह अक्सर अपने बनाए वीडियो यू-ट्यूब पर शेयर किया करते थे. लोग उनके वीडियो को काफी पसंद करते थे. साथ ही उसने सफलता पाने के लिए सवाल पूछा करते थे. जबकि उनके बेटे अमित ऑस्ट्रेलिया में मोटिवेशनल स्पीच दिया करते थे.

दिल्ली के मुंडका की इमारत में शुक्रवार को भीषण आग लग गई. आग लगने से 27 लोगों की मौत हो गई. सभी शव बरामद कर लिए गए हैं. वहीं 100 से ज्यादा लोगों को रेस्क्यू किया गया. रेस्क्यू करने के लिए NDRF की दिल्ली फायर सर्विस की टीमें लगीं. इमारत में एंट्री के लिए महज एक ही रास्ता था, लिहाजा बगल वाली बिल्डिंग के जरिए दीवार में छेद कर बचाव दलों ने प्रवेश किया. इसके बाद कांच के शीशे तोड़े, तब कहीं जाकर अंदर फंसे लोगों को निकाला गया.


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें